तुम्हें आलिंगन भेजूं आज

Bujji Sleeping
Bujji Sleeping
हो नींद में अगर, तुम्हें एक ख्वाब भेजूं आज।
होठों पे लाये हंसी, ऐसी याद भेजू आज।
हूँ दूर तुमसे पर तुम्हारें पास में ही हूँ,
तुम फैलाओं अपनी बाहें, तुम्हें आलिंगन भेजूं आज।

Advertisements

उस दर से मेरी सदा ही दुरी रखना

Life-iz-Amazing-Pray
Ek Duaa

उस दर से मेरी सदा ही दुरी रखना,
गुज़रकर जहाँ से लोगों के ईमान बदलते हो..

दब जाती हो चींख जहाँ सिक्कों की खनक में,
भूल जाते हो जाके खुद के वजूद को,
उस तेज से हमको महरूम ही रखना,
देख जिसको एक बार और कुछ दीखता नहीं हो..

—————————————-
Us dar se meri sadaa hi duri rakhna,
guzarkar jahan se logon ke eeman badalte ho..
dab jaati ho cheekh jahan sikkon ki khanak mein,
bhul jaate ho jaake khud ke wajood ko,
us tej se humko mahroom hi rakhna,
dekh jisko ek baar aur kuchh dikhta nahin ho..

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: