U-Turn on Lokpal and Swaraj

U-Turn9Arvind Kejriwal is the worst thing happened in a progressive politics. Why? because he used youth to do dharna and took whole nation’s attention on name of corruption and lokpal and when he has a full majority government in state he said there is no requirement of lokpal. What the hell he was doing in 2011-12 if lokpal was not required? This shrewd man has written a book named swaraj, he capitalized on the dream of mahatma gandhi to distibute the power among every citizen through multi channels, like wards, panchayats, mandals, zila and so ons but after writing his book “swaraj” he given hundred of speech and convinced people and as he was a master in social engineering, used energy of youth but when time came to implement the concept of Swaraj, he again took U-Turn. Like a dictator he removed strong founding members of his party and shown us how much he care for his dream called swaraj. Actually he was always a power seeker and when he was not elected, having no power, he hand hunger to hold some position to have some rights, power no matter even at ward level so he advocate the concept of swaraj. But when foolness of Delhites, stupidity of freebies given him power to rule, to distribute the power among panchayats he took U-Turn. Once holding a chair, having position, He realized what all can happen if power got distributed. Still If Kejriwal supporters think that he is a hero, its their wish but for me Kejriwal is the worst thing happened to a progressive politics. And now i am worried to see Anna silent on Lokpal, when his own trained student got an opportunity to guide, can he ask Kejriwal to Implement Lokpal and Swaraj? I doubt.
Stay with me for U-Turn’s next U-Turn. 🙂

Advertisements

शांति की खोज में दुनिया

अब शांति की लहर यमन में फैली है, शिया-सुन्नी के खेल में कल दो मस्जिदें टूट गयी और १६० से अधिक लोग मारे गए. खबर है की सऊदी अरबम अन्य १० खाड़ी देशो के साथ मिलकर यमन के विद्रोहियों से लड़ेगी और वर्तमान हादी सरकार को बचाएगी…. इन युद्धों का धर्म से कोई मतलब नहीं पर जो टूटा वो मस्जिद थी जिसे जानबूझकर तोडा गया जब शिया नमाज पढ़ रहे थे..तो ऐसे फैलती है शांति, क्युकी लाशें आवाज नहीं करती, और जब मेहनत किया है तो हूर जन्नत में क्यूँ यहीं बलात्कार कर के सब पायेंगे….. शर्म है पर धर्म है.
खैर हम भारत में है और यहाँ अभी शांति नहीं आयी है और यहाँ हम एक दुसरे के साथ खूब लड़ रहे है, क्यूंकि यहाँ अब भी बूत पूजने वाले बेवकूफ बाहुल्य है और जीद में है की शांति नहीं फैलने देंगे…

Happy Anniversary Bujji

Prasu-Kuchipudi (1)_001 Dear Priyeee,
It’s 26th March and on this special day I would like to thank Krishna and you for a beautiful night where we interacted and discovered a world of faith, where we explored ocean of love, where we ride on dreams. I am thankful to you dear lady who found me lovable, who taught me how to love, care and live. I mean my words and i would say that many of times you made me feel magic happens and Life iz Amazing. I love you for everything you did, I am thankful to Krishna that he sent you in my life.  Bujji that night i was in a quick hurry and once i sensed that you have love for me I felt an amazing pleasure, thi mind turned into home of dreams and heart was full of love. I noticed your hints and fact that you were hesitant so i proposed you. I am sorry that i couldn’t make it as a memorable propose but i was lucky enough to get you before those three magical words which turns the world once spoken. I inew i never deserved you but i wanted to be with you, your care was something i got addicted of, you have no idea how i feel with your care and love and when you treat me like your hubby.
Time passes very fast, and in just two years we discovered most unpredictable situations, success and sorrow accompanied ours love, magic which i found in you has lost, but i am really sorry bujji for not being what you were looking for. Every year this day will remind me of a beautiful girl, some broken promises and love on phone where we agreed to love without boundaries, complemented each other with thoughts got commited and then we failed.
Bujji, today i don’t have anything for you or against you but few good memories. You know i came out of those situation when i was keep calling you for thousand of times a day and disturbing you. You should also thank me and my people who helped that lunatic to move on. Now when i read your old texts, your hangout history, shared pictures, videos and thoughts i laugh. Really i laugh and make fun of myself, you know things changed faster than a drama and now I am convinced that Krishna has punished me for ignoring myself and blessed you for your commitments. There are so many good qualities in you, and i agree with you that you are best. I loved your confidence when you said world knows you’re the best. As you already know I never had any exceptional view and also i trust worl so if they found you best you are the best. But bujji do they know you 😉 leave. I am really impressed with your priorities, which is key to any success. I remember just after we got committed you saved my number as SOS number and informed me about that and you made me feel very special. Started planning of marriage but in a year you knew me better and so last year you started ignoring and just after 26th, informed me that relationship was fake. I loved your tricks, to fight with me, like other looser(lovers) i too had digested all your abuses, but not just your love but your ignorance all taught me many of things. We both were different(everyone is) and now we know the difference. I am happy that you made your parents proud and i am lucky enough who got sometime replies from you.
You know I believe in words, and Brida says God manifest himself into everything and so in words. This believer have been taught a very good lesson by the same god who is everywhere. And lesson is if you are believing words you must know the art to read what’s the hidden texts behind the letters. I still believe if you had that art we would have a different story.

I am confused today, don’t know what i am writing, whether am I making any sense or not and will you ever spend your two minutes to read this or not but i am writing, not for you, for my bujji, for myself for all good things i met in my life. I am in pain today, reasons are many but i know how to survive, you are a good teacher and learnt from your love, from your abuse, from your care, from your ignorance, from your belief and also from your cheats, really i loved you and you will always special for me. This night of 26th will keep teaching me to live in moments. I know things are going to be change very soon and the best is yet to come.
Happy Anniversary
Have A Successful Life
Yours Bujji
Thank You

कोशिश आज भी सरेआम करता हूँ

IMG_20150325_211238[1]हर मौके पर न सही, हर आवाज को न सही,
पर कुछ से कहु, कुछ को सुनूं, ये कोशिश हर बार करता हूँ,
हर महफ़िल में न सही, हर मंच पे न सही,
पर खुद से मिलु किसी मेले में, सहेजु कल की तस्वीरों को,
कोशिश आज भी सरेआम करता हूँ। 😉
– सन्नी कुमार
———————————————————————–
Har mauke par na sahi, har awaj ko na sahi,
Par kuchh se kahu, kuchh ki sunu, ye koshish har baar karta hu..
Har mahfil me na sahi, har manch pe n sahi,
Par khud se milu kisi mele mein, saheju kal ki tasweeron ko, koshish aaj bhi sare-aam karta hun.

हिंदुस्तान के आदर्श

अयोध्या में प्रभु श्री राम एक महाप्रतापी राजा हुए जिन्होंने अपने जीवन शैली से कर्तव्यों के प्रति निष्ठां, प्रेम, त्याग, मूल्य मर्यादा और साहस सिखाई। हम हिन्दू है हमारे लिए वो ईश्वर के अवतार थे। आप अगर हिन्दू है तो प्रभु के जीवन से बहुत कुछ सीख सकते है, अगर हिन्दू नहीं है फिर भी आप एक महाप्रतापी राजा के जीवन से बहुत कुछ सीख सकते है। श्रीराम महाप्रतापी साहसी और वीर होते हुए भी दमन से दूर प्रेम को पोषित करते रहे। वैसे ही श्री कृष्ण थे जिन्होंने कर्म को निस्वार्थ करना सीखाया, बुद्ध और महावीर ने ध्यान और शांति सीखाई तो नानक ने असमानता को दूर किया। इस भूमि ने जिनको भी आदर्श स्थापित बनाया उनमे किसी ने भी डर को प्रोत्साहित नही किया, सब ने मूल्यों और आदर्शों को ही समझाया, प्रकृति से प्रेम और पूजा सीखाया।
आज कुछ लोग इस मिटटी के होकर अरब में पैदा हुए मुहम्मद का यकीन करते है, और अरबी जीवनशैली अपनाना चाहते, कुछ यीशु भक्त जेरूसलम के आदर्श हिंदुस्तान में स्थापित करना चाहते। मेरा कोई विरोध नही है पर मैं बस ये कहना चाहता हूँ की अरब और जेरूसलम की मिटटी, भाषा, और वातावरण अलग थे तभी वहां के आदर्श जो बने उनकी प्रवृत्ति भी अलग। अरब में जहां रेत ज्यादा थी और लोगों में हिंसक प्रवृति थी तो वहीं जेरूसलम भी अत्याचार का शिकार था, यीशु ने खुद की बलिदानी देकर लोगों को दर्द सहना सीखाया तो मुहम्मद ने लोगो के जीने के तौर तरीको के लिए क़ुरान का प्रचार किया, अरब जहाँ के लोग आज भी स्त्री के लिए विकृत मानसिकता रखते है वहां बुरका की जबरदस्ती समझी गयी, नर्क का आग और स्वर्ग में हूरो का लालच भी इसी क्रम में रहा होगा, पर मेरा विरोध अल्लाह से कभी नही रहा न हो सकता है क्योंकि मैं भाषा के अंतर को समझता हूँ और वो मेरे ईश्वर को अल्लाह कहते है, मेरे ईश्वर ने मुझे भारत भूमि में पैदा किया जिस भूमि में एक से बढ़ कर एक प्रतापी राजा, त्यागी ब्राह्मण और नए पन्थ देने वाले नए नए आदर्श हुये। मुझे ईश्वर के काम पर यकीन हैं, जिसने अरब, जेरुसलन और भारत को उसके प्रकृति के अनुरूप आदर्श दिए और जीवन को समझाया। आज श्रीराम, बुद्ध, महावीर, नानक के आदर्शों को अगर यहां के मुहम्मद समर्थक नहीं समझ रहे तो ये उनकी अजीब जीद है क्योंकि इस मिट्टी में पैदा हुआ हर वीर चाहे वो जिस युग में रहा हो ने दमन नही सीखाया, उसने बेहतर जीवन और मूल्यों को ही समझाया, भोग के ऊपर त्याग को वरीयता देने वाले इस भूमि के लोग आज अगर किसी अरबी भोगी को अपना आदर्श मानते है तो वो चिंतन करें और अपने जड़ को पहचाने,घर वापसी के लिए हम न तो पैसे दे सकते न हमें 72 हूर मिलने है पर एक कोशिश है की इस मिटटी के मूल्य, यहां की संस्कृति सभ्यता के प्रति हम सब जवाबदेह रहे। त्याग, तपस्या, और धार्मिक सद्भाव की यह भूमि जग में हमेशा विशेष रहे।

-सन्नी कुमार

गौहत्या एक गुनाह

भारत भूमि इस विश्व के नक्शे में सबसे महान है जहां की संस्कृति में मिटटी, जल, पेड़, सबका सम्मान है सबके प्रति मनुष्य मन में ऋणी होने का बोध है, भारत हिंदुओं का देश रहा है और आज भी यहां के लोग चाहे जिस धर्म को मानते हो वो हिंदुत्व से प्रभावित है और यही कारन है की इस देश ने हर धर्म को फलने का अवसर दिया है किन्तु क्या आज इस देश में रहने वाले लोग यहां की संस्कृति के प्रति जवाबदेह नही है? हमारी संस्कृति में गाय को माँ का स्वरूप् माना गया है, कारण भावनात्मक और तार्किक दोनों है, आज अगर कोई आपको उस संस्कृति, उस पालनहारी गौ की हत्या से रोक रहा है तो आप क्या आज कुछ और नहीं खा सकते? पता नहीं आपकी भूख कितनी बड़ी होगी पर यहां मैं एक कोशिश करता हूँ की समझा सकु हिंदुस्तान में गौहत्या क्यों गुनाह है और इस रोकने का प्रयास क्यों पुरे देश में अविलम्ब होना चाहिए।
हिन्दू मानुष जो प्रकृति के हर रूप से प्रेम करता है, गाय को अपनी माँ के रूप में देखता है और उसके प्रति सम्मान औरे ऋणी होने का भावना रखता है। गाय एक बहुत शांत जीव है जिससे मनुष्य को कोई खतरा नही, प्रकृति ने हर फसल में गोवंश के लिए अपना हिस्सा भी दिया है जो गौवंश के न होने पर बर्बाद होता है, फिर भी गौमांस की भूख हमें उन दिनों में धकेलने का प्रयास करती है जब मनुष्य अपने जीवन को बचाने के लिए कुछ भी खा के नंगा पंगा रहता था, पर आज हम शभ्य समाज में है, बेहतर जीवन के लिए धर्म है, आदर्श है और हम ईश्वर तक पहुँचने की कोशिश का दम्भ भी भर रहे है फिर भी उस जीव की हत्या को जायज बता रहे जो उम्र भर अपने बचरे का दूध आपको आपके बच्चे को पिलाती है, उसके दूध से आप न जाने कितने मिठाई, दूध मक्खन पनीर बनाते है और उसके बाद भी उस निसहाय जीव के प्रति ऐसा रवैया?? शर्म आती है मुझे जब ऋषि कपूर, अंशुमान, फरहान को सुनता हु की किस बेबाकी से वो अपनी जाहिलियत दरशा देते है पर अगर आप हिन्दू है तो उस जीव की रक्षा का निर्देश आपके धार्मिक किताबों में है, अगर आप ईसाई है तो प्रेम का परिचय दे, अगर आप मुहम्मद के चाहने वाले है कुरान वाले तो वहां भी उल्लेख है की जिस  मिटटी में रहो उसकी संस्कृति से प्यार करो, अगर आप धार्मिक है तो धर्म यही कहता है की जिसने आप पर उपकार किया हो, आपको पलने में मदद किया हो उसको न मारे। और गाय किसी के लिये खतरा नही जैसा की पहले भी लिख चूका हूँ की प्रकृति ने उसके भोजन के लिए ही हर फसल में उसका हिस्सा छोड़ा है। अब चुकी आप हिन्दू मन है या नही पर अगर आप मनुष्य है तो आपको समझने के लिए काफी है की आप गाय न मारेंगे तब भी आप की भूख मर जायेगी पर आप गाय मारते ही एक भेड़िया हो जायेंगे जिसकी भूख किसी के जान से शांत होगी। मैं कसाई का विरोध उतना नही करता क्योंकि हो सकता है उस जाहिल को कुछ और न मिला हो करने को पर आप?
कुछ मित्रों का यह भी कहना है की उनके धार्मिक किताब में गौहत्या में बुराई नही लिखा गया, आज उनलोगों को कहना चाहता हूँ की अरब की तुलना हिंदुस्तान से नही की जा सकती, दोनों जगह के भाषा लोग प्रकृति में परिवर्तन है, हमारी प्रवृति अलग है, अगर सब एक होता तो दो अलग धर्म न होते। उनके यहां की मिटटी हिंदुस्तान की तरह नही जहाँ हर फल उग सके, मांस उनकी मजबूरी रही होगी ऐसा इस मन को लगता है। रेत पे जीने वाले अगर आप भी हो और वहां कुछ और न हो तो अपने जीवन को बचाने के लिए आप कुछ भी करो इसको जायज माना जा सकता है पर हिंदुस्तान, ईश्वर की कृपा से इतना सम्पन्न है की तुम एक हत्या किये बिना भी अपनी भूख शांत कर सकते हो।
वह धर्म नहीं अधर्म होगा जिसमे उपकार का ऋण ऐसे चुकाया जाता होगा, वह धर्म नही अधर्म होगा जिसमे अपनी लालसा की पूर्ति के लिए किसी को मारा जाता होगा।
निवेदन- गौहत्या से बचे इंसान बने।
-सन्नी कुमार
#BanBeef

(I oppose innocense slaughtering, I support Ban Beef and heartily thankful to Haryana and Maharashtra People for making it possible and saving our rich culture. Share if you care.)

शीर्षक सुझाएं

अरमानों की अर्थी
ख्वाबों की हक़ीक़त
हसरतों का हस्ताक्षर
भावनाओं के समन्दर में “एक कागज का नाव”
कहानी जोकर की

कल को वापिस नही ला सकता पर सहेजना चाहता हु वीर की नकाबिलियत को, स्वीटी की मजबूरियों को प्रिये के हालातों को, तीनो को ही लगता है वो सही है पर फिर गलत क्या था प्यार का होना?? यादें शेष है, कुछ सादे पन्ने और स्याही से भावों को उतारने चला हूँ, उद्देश्य भी पाक है की लोग समझे प्यार फूलों का सेज ही नही काँटों ला ताज भी है, अगर संघर्स मिलके न किया तो आप लाख अच्छे हो हालातों का तूफान आपको दूर कर ही देगा। ऊपर कुछ नाम इसी कहानी के शीर्षक संदर्भ में था, आप इनमे से कोई एक या इससे बेहतर नाम भी सुझा सकते हैं। धन्यवाद।

तुम्हें बेवफा कहूँ तो कैसे

image

तुम्हें बेवफा कहूँ तो कैसे की तुमने वफ़ा भी कब किया था,
झूठे किस्सों से हमने क्यों ख्वाबों का महल खड़ा किया था,
तुम्हारा प्रयोग सफल रहा, तुम्हे पुरस्कार भी मिल रहे आज,
पर तुमने जो तोड़े ख्वाब, झूठ भले हो पर आज बिलख रहे थे।

कुछ नए शब्द सीख लिए है तुमने, बेहतर जीने की जद को भी खूब समझने लगी हो,
पर उन शब्दों का क्या जो अब भी इन कानों में गूंज रहे है?
तुम जीयो बेहतर तुम्हे मिलता रहे बेहतर,
पर दौड़ ये बेहयाई की तुम दौड़ोगी कबतक?

आज इल्जाम है की क्यों पुराने पन्ने पलटता हूँ मैं,
क्या करूँ एक ख्वाब बड़ी चालाकी से तुमने बदल था तब,
दिल अगर न होता तो हम, न यकीन करते तुम्हारा,
तुम्हारे फिक्र को, उन शब्दों को सच मानने लगे थे तब,
मालूम न था कि कोई ऐसे भी खेलता है,
यकीन करो शब्दों के जाल से तुम बेहतर फांसती हो।
इश्क़ कहता रहा हु तुम्हे सो अब शिकायत भी नही वाजिब,
पर छुपाऊँ सच को, नही इतना मैं काबिल।

तुम खुश रहो आज बेहतर को पाकर,
जनता हूँ मैं भी तुम क्या जीती थी कल तक,
इश्क़ का हमने कल मखौल था उड़ाया,
अब इश्क़ की बारी है तुम मूल्यों को बचाना।
-सन्नी कुमार

मन को बचाने का हुनर

image

जब भी मन अशांत होने लगता है, भावनाओं का तूफान मन को डुबोने लगता है, चुपके से मन को कागज के नाव पर स्याहियों के सहारे उतार लेता हूँ, मन को खरोच तो आती है और विस्थापित होने का डर भी बराबर होता है पर फिर तूफान शांत होने के बाद कागजों के उस नाव से पुनः मन को उसकी दुनिया में छोड़ देता हूँ। अब इन तूफानों का डर नही सताता चुकी ये हर बार कुछ सीखा जाती है पर प्रार्थना करता हूँ की कलम की स्याही, कुछ सादे पन्ने के नाव और ये बचाव का हुनर हमेशा साथ रहे, और हर तूफान के बाद मन पुनः शांत रहे।
-सन्नी कुमार

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: