क्यूंकि बहरी, भ्रष्ट है सरकार, अब सरकार ये बदल दो..

Stop Corruption

मिला मौका है इस बार, कि इतिहास अब बदल दो.
न करनी परे फिर से शिकायत, ये हालात अब बदल दो..
मिली आजादी विरासत में हमें, इसे स्वराज में अब बदल दो,
क्यूंकि बहरी, भ्रष्ट है सरकार, अब सरकार ये बदल दो..

अपने नहीं ये हमारे,
ना इनको देश का ही है ख्याल..
ये तो तुर्कों से है लुटेरे,
बुनते हर घडी लूट की चाल..

जनमानस की छोड़ ही दो आप,
इनको माँ भारती का भी ख्याल नहीं..
पकरे गए खरबों की चोरी में,
फिर भी आँखों में है इनके शर्म नहीं..

बख्शी थोड़ी इज्जत है,
जो कह दीया हमने सरकार,
जो दिल से पूछो तो कहूँ,
है यही असली गद्दार..

कभी हमें रंगों में बाँटते,
कभी दीन, दिशा के नाम पर,
देश का दुर्दशा कर दिया,
वोट पाते गाँधी के नाम पर..

इनको नहीं दीखते सपने स्वराज के,
इनको नहीं करनी अब चर्चा, लोकपाल की.
ये तो गूंगे, बहरे लोग है,
क्यूँ इनसे उम्मीदें बेकार की..

यही समय है सोच लो अब आप,
किसको जीते हो,
दिल से हो हिंदुस्तानी,
या अधिकार बस वोटों का रखते हो..

है जमीर जागा हुआ,
या आप भी उनसे हो,
जो नहीं तो फिर क्यूँ,
आप विज्ञापनों पे मरते हो?

आँखे खोलो देखों,
किस हाल में माँ भारती,
जो कर सके सुपरिवर्तन,
अब उसी का साथ दो..

है मुझें उम्मीद खुद से,
ऐतबार आप पे करता हूँ..
इसीलिए अपनी मन की बात,
आप तक सीधे रखता हूँ..

मिला मौका है इस बार, कि इतिहास अब बदल दो.
न करनी परे फिर से शिकायत, ये हालात अब बदल दो..
मिली आजादी विरासत में हमें, इसे स्वराज में अब बदल दो,
क्यूंकि बहरी, भ्रष्ट है सरकार, अब सरकार ये बदल दो..

-सन्नी कुमार
[एक निवेदन- आपको हमारी रचना कैसी लगी, कमेंट करके हमें सूचित करें. धन्यवाद।]

Request to All : Vote for Development Vote for Modi

Get Ready to Kick Every Individual who are supporting this Corrupt Ruling Party which is good for nothing but scams.
Good news for all change seekers that After so many internal fights Namo has came out with a winner and declared as BJP’s chief election campaign and he needs us now. It’s our responsibility to make him win who has dream for mother nation.

To All My Friends Who Are Supporting Namo, Please start contacting the mass if you want to see change. Call every individual who are supporting UPA for discussion and ask him why they are supporting a party which is running from a fixed address from last 65 years. We are independent and talented too then why we always look and cast our votes to the Nehruvians, who can easily made Guinness entry with their unstoppable scams.

Why can’t we find a solution? why can’t we see a leader in us? I’m going to Support Shri Narendra Modi Ji, who never did a caste/region or religion based politics and proved himself as a leader of mass, a leader of development.

Muslims are not going to vote for Narendra Modi and reason is Godhra, Why can’t we Indian accept this truth that from last 12 years Gujrat is one of the few state which has not seen a single day of curfew? Now world is appreciating Narendra Modi for his leadership and development what he made in Gujrat.

It’s we, specially the youth who are going to decide the fate of 2014, so please vote whoever you want but not to congress who is very good at divide and rule politics and sorry but it’s a black truth that our minority have not much choice they can do business for their vote and can ask for 18 or 20% reservation and we should not doubt that congress would be happy with this deal as they are best in doing promises. So be careful and don’t vote for those who are dividing society for their loaf.

Have u noticed??
Recently congress won in Karnatka (They Must Thank Yedurappa) and what they did there, they allowed cow slaughtering as it was banned by BJP government, they were never serious about the development and these clever foxes are very good at Divide and Rude Politics, so please keep your eye open.

I’m going to support Narendra Modi and Reasons are-
He is one of the very few leaders who are not doing race,religion and region based politics.
He knows what India needs and he has proved himself as a man of development.
In Gujrat there is only 1% unemployment as he is capable to create jobs.
He is capable to restrict all those who are Indian on voter card but not in reality.
He is the only leader who can deal with our arrogant neighborhood.
many more reasons i have, will share later..
When we have seen curfew in Assam, Bengal, UP and many other states Gujrat has not meet a single day curfew from last 11/12 years.
He understand the India better and he can handle our arrogant neighbors better Narendra Modi .
He is a Man not a machine whose control is in other hand, hope you understand, so please vote for Namo.

Om Namo Namah.

Congressi are invited to discuss(Logical only).

“Desh kar rahaa Pukaar Narendra Modi Ab ki Baar”

Vandematram

share if it worth.

मै हूँ इस देश की गौरव

preambleमै दीवारों से बनी एक महल बस नहीं,
जहाँ होते हो चर्चा, एक सदन बस नहीं,
न कानून बनाने का एक केंद्र बस हु मै,
मै हूँ इस देश की गौरव, दिशा देने वाली…

हाँ मै ही थी जिसने कानून बनवाएं,
मैंने ही आपके हक थे दिलवाए,
मैंने ही थे आपके कर्त्तव्य भी बताये,
और मेरे ही शोर ने अबतक देश है चलाएं…

किन्तु खेद क़ी समय से नहीं रह सक़ी अछूती,
दिशा देती थी जो सबको, आज खुद ही है भटकी,
जिसे थे सुलझाने समस्या, आज झेल रही है समस्या,
आज संशय में शायद, क्या मै हूँ देश बनाती?

ये है मै ही थी, स्व पे गुमान करती थी,
अपनों के त्याग पे मान करती थी,
और में ही हु आज, खुद को दोषी कहती,
अपने घरवालों को हूँ दागी कहती..

लड़ना घरवालों का कुछ नया नहीं था,
पर बिकना रुपयों में क्या देश द्रोह से कम था?
ताज्जुब नहीं की तब चौकीदार सोया था,
शक हुआ यकीन कि अब वो भी बिका था…

वो दौर कोई और था जब अपने भाग्य थी इठलाती,
था मन में एक गुरूर कि मै ही देश चलाती,
पर ये गौरव, गुमान क्षणिक ही रह गया,
अपनों के स्वार्थ ने ये दिन दिखा दिया..

है निवेदन सबसे, मेरे सुनहरे दिन लौटा दो,
जो देश एक कर सके, वो पटेल मुझे लौटा दो,
सादगी हो शास्त्री सी जिसमें, अटल गुण संपन्न हो,
बिना भेद जो देश चलायें उसी को सत्ता पे तुम बिठा दो..

-सन्नी कुमार
[एक निवेदन- आपको हमारी रचना कैसी लगी कमेंट करके हमें सूचित करें. धन्यवाद।]

वो शुप्त नहीं है

narendra modi next pm indiaवो शुप्त नहीं है,
न ही रौशनी विहीन,
पर दिखे उन आँखों को कैसे,
जिनपे हो पट्टियाँ लगी?
है वो ओज़ गुण संपन्न,
सनातन धर्म से जुड़ा,
उसमें शंखनाद की हिम्मत,
विकास-पुरुष वो हुआ..

उसमें तेज है जान,
बहुतों ने दिए जलवाए,
कुछ ने आग भी लगवाएं,
किया क्या कोई उसने जुर्म,
जो उसने तेज धर्म निभाएं?

जिस रस्ते हो तेल छिड़का,
वहीँ से आग भी गुजरे,
फिर वहां जले न कोई,
क्या ऐसा हुआ है कभी?

क्यूँ आरोप बस उस आग पे,
की उसने घर थे जलाये,
क्यूँ नहीं उनका कुछ,
जिन्होंने तेल थे फैलाए?

नहीं करता कोई विवाद,
ना कोई पूर्व से प्रश्न,
मैं मानता ये सच हूँ,
कि उसने मान है बढायें|

वो शुप्त नहीं है,
न ही रौशनी विहीन,
पर दिखे उन आँखों को कैसे,
जिनको आँखें ही नहीं?

-सन्नी कुमार
[एक निवेदन- आपको हमारी रचना कैसी लगी कमेंट करके हमें सूचित करें. धन्यवाद।]
 

नरेंद्र मोदी जी को समर्पित मेरी अन्य कवितायें.

आज शंखनाद हुआ है.

२०१४ गुलज़ार होने वाला है तुझसे..

चुनाव नहीं मतदान करें

वो शुप्त नहीं है..

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: