पथिक धर्म

मेरे मित्र ॐ ने आज फेसबुक पे अपनी ये 2 साल पुरानी पोस्ट शेयर की थी
अब तक सफर अच्छा रहा,
इस मोड़ से अब जाए कहाँ,
रास्ते में जो भी हो,
हम ढूंढेंगे अपना जहाँ।

छोटी-छोटी खुशियों के लिए क्यों तरसे लम्हें,
बड़े-बड़े चोट खाकर आये है, सफर मीलों का तय कर के।
मुझे दोस्त का पोस्ट पसन्द आया, कमेंट करने गया तो वहां मेरा पहले से कमेंट था जो इस तरह है।

रास्तों की ठोकरें,
सम्भल कर चलना सिखाती है,
तू मगरूर, मदहोश तो नही,
ये ठोकरे बताती है..

जो डरा नहीं तू ठोकरों से,
जो टूटा नही गिर जाने से,
मंजिल तमको मिल जानी है,
हर सफर की यही कहानी है।

बात मोड़ों की जो समझो,
ये मोडें बहुत कुछ सिखलाती है,
लक्ष्य तुम्हारा कितना पक्का है,
ये मोडें ही बतलाती है।

उल्झों नहीं मोड़ो को लेकर,
पथिक का तुम धर्म निभाओ,
रुको नहीं तुम बीच राह में,
बस तुम लक्ष्य को बढ़ते जाओ।
-सन्नी कुमार

Advertisements

सौगंध मुझे इस मिट्टी की मैं देश नहीं मिटने दूंगा

सौगंध मुझे इस मिट्टी की मैं देश नहीं मिटने दूंगा

मैं देश नहीं झुकने दूंगा
मेरी धरती मुझसे पूछ रही कब मेरा कर्ज चुकाओगे

मेरा अंबर पूछ रहा कब अपना फर्ज निभा ओगे
मेरा वचन है भारत मां को तेरा शीश नहीं झुकने दूंगा

सौगंध मुझे इस मिट्टी की मैं देश नहीं मिटने दूंगा

वे लूट रहे हैं सपनों को मैं चैन से कैसे सो जाऊं
वे बेच रहे हैं भारत को खामोश मैं कैसे हो जाऊं

हां मैंने कसम उठाई है मैं देश नहीं बिकने नहीं दूंगा
सौगंध मुझे इस मिट्टी की मैं देश नहीं मिटने दूंगा

वो जितने अंधेरे लाएंगे मैं उतने उजाले लाऊंगा
वो जितनी रात बढ़ाएंगे मैं उतने सूरज उगाऊंगा

इस छल-फरेब की आंधी में मैं दीप नहीं बुझने दूंगा
सौगंध मुझे इस मिट्टी की मैं देश नहीं मिटने दूंगा

वे चाहते हैं जागे न कोई बस रात का कारोबार चले
वे नशा बांटते जाएं और देश यूं ही बीमार चले

पर जाग रहा है देश मेरा हर भारतवासी जीतेगा
सौगंध मुझे इस मिट्टी की मैं देश नहीं मिटने दूंगा

मांओं बहनों की अस्मत पर गिद्ध नजर लगाए बैठे हैं
मैं अपने देश की धरती पर अब दर्दी नहीं उगने दूंगा

मैं देश नहीं रुकने दूंगा सौगंध मुझे इस मिट्टी की मैं देश नहीं मिटने
दूंगा
अब घड़ी फैसले की आई हमने है कसम अब खाई

हमें फिर से दोहराना है और खुद को याद दिलाना है
न भटकेंगे न अटकेंगे कुछ भी हो इस बार
हम देश नहीं मिटने देंगे सौगंध मुझे इस मिट्टी की मैं देश
नहीं मिटने दूंगा।

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: