हुनर में खास क्या रखा है

भावनाओं को समझिए तस्वीर में क्या रखा है,
यहां रोज चखते है मूर्ख सफलता का स्वाद लेकर आरक्षण की सीढ़ियां,
फिर हुनर में खास क्या रखा है?

यहां भारत बंद कराने की राजनीति ही होती आई है सालों से,
फिर गरीबी से लड़ाई में क्या रखा है?
सरकारी खर्चे पे रिसर्च करने वाला गरीबी से कुछ यूं लड़ता है,
खुद इंडस्ट्री लगा नहीं सकता शायद तभी पूछता है कि औरों ने कैसे लगा रखा है?

©सन्नी कुमार

Advertisements

अंबेडकर जयंति की शुभकामनाएं

बाबा के जन्मदिन पर उनको बधाई, आप जैसा व्यक्तित्व ढूंढना और समझना बहुत मुश्किल है खास कर तब जब भारतीय किताबों में, शहर के चौराहों पर, आपके संविधान और आपके खेले दलित कार्ड में विरोधाभास हो।
I mean एक तरफ जब देश के एक सम्पन्न वकील ने अफ्रीका से क्रांति की शुरुआत की और भारत आकर जिन कपड़ों और नियमों की होली जलाकर खुद आगे नंगे घूम रहे थे, एक ics क्वालीफाईड नेता ब्रिटैन की नौकरी छोड़ आजाद सेना बना रहा था, तो वहीं तब आप एक ऐसे गरीब परिवार से निकले जिसको विदेश मे न सिर्फ पढ़ने का बल्कि देश के लिए संविधान गढ़ने का भी अवसर मिला, और आपने शोषितों के लिए एक शानदार और बराबरी का कानून भी बनाया जो आज फेल साबित हो रहा है/किया जा रहा है, और आज यह निश्चित ही सामाजिक वैमनस्य का कारण बना हुआ है। आपकी आरक्षण को लेकर क्या सोंच थी और इसे किस तरह लागू किया गया है समझना मुश्किल है पर आज यह राजनेताओं के लिए संजीवनी है और पोस्टर बॉय बनाने का यह एक आजमाया आसान तरीका है। खैर आप आज होते तो आप भी क्षुब्ध होते क्योंकि आप बिना किसी आरक्षण के पढ़े थे और उस वक्त विदेश में पढ़े और सबके चहेते रहे जब देश बंगाल-बिहार में लाखों लोग अनाज के दो दानों के लिए तरसते होते थे, पर आज देश आजाद है आपकी बनाई कानून है और लोग अलग अलग जातियों के पोस्टर बैनर लिए भारत को बंद कराना चाहते, इनमे न कोई अधनंगा संत गांधी है, न खून के बदले आजादी सौंपने वाला नेताजी और न आप जैसा ब्लू सूट वाला महान चिंतक…

अम्बेडकर जयंती की शुभकामनाएं सिर्फ उनको जो दल के दलदल से बाहर है, और मौजूदा आरक्षण को लीगल भ्रस्टाचार मानते है।
हे राम!
जय हिंद!
जय भीम!

हिरण को मिला न्याय

भारतीय होने के नाते हर निर्णय का सम्मान करता हूँ पर क्या कोर्ट को वाकई हिरण, शेर, बाघ जैसे जंगली जानवर से ही प्यार है, क्या इनको मारना ही, मात्र अपराध है?
गाय जैसे घरेलू जानवर के लिए न PETA बोलेगा न हम और न आप पर क्यों? दो पैर वाले जानवर(इंसानों) में भी जो बाघ (अलगाववादी) है, दहाड़ सकते है संरक्षण उन्हीं को मिलता है, जो हिरण है करोड़ो का कस्तूरी देते है वैसे नीरव को ही भागने दिया जाता है पर बेचारी गाय (गरीब टैक्सपेयर) जिसके बछड़े के हिस्से का दूध(कमाई का हिस्सा) भी तुम पीते हो, उसी को काटने का रिवाज़ क्यों है? क्यों उसके हक़ की बात होती है?
सब ठीक तो है इस दुनिया में जहां हर कोई खुद के सभ्यता और संस्कृति की बात पे मूंछे/दाढ़ी/या कॉलर पे ताव देता है और ईश्वर के नियमों में यकीन रखता है? या हम आज भी पाषाणयुग के खानाबदोश भर ही है और सुधार बस इतना है कि आज हम सब लम्बी लम्बी हांक देते है, और सूट बूट झार लेते है?

क्या कानून गाय (टैक्सपेयर्स) के लिए भी वफादार हो जाये वैसे अच्छे दिन आएगा, या मुझे कल्पनाजीवी(utopian) कहके नकार दोगे तुम?

-श्री श्री (रविशंकर नहीं)

Ideas that can bring change in India

I am having few Ideas that can bring a great change for India, politicians should not object it as it covers every parties dream and that plan is something that a right-wing might take it as a leftist concept and left might find it fascist policy but in fact it’s a panacea that India must take on time or else not only the people but nation and nationalism will die an early death and everyone might have started feeling the hate waves.
Okay, so as I said this plan could change the future of ours and will demolish all the barriers of caste and religion(I am not against anyone but I know that these things must be kept personal).
First Change that I Propose is
1. As In India we are already having Sarv Shiksha Abhiyan Policy, govt has already teachers, many boards, freebies like books and mid-day meals, I would request this to extend this existing policy until a student graduates, and not up to 10th only. In practice, Government must stop all current boards or at least form a new board and it must be directly supervised by Army and The President. That Board must convert all running schools as a boarding school, where these all SC, ST, OBC, General, Hindu, Muslim, Jain and others must be facilitated with the updated syllabus and that must be skill-oriented just after grade 8. Once these students will be learning and living together then, in short, there will be nothing called casteism, and syllabus should be rich enough that would be able to cater enough patriotism and also fulfill national demands.
A question may arise in regard to the availability of funds and infrastructure for everyone and that too for a long period??
Well, Govt can propose to business men to join their hand in PPP mode for providing facilities. Then the students who are getting everything free for 15 years must have to serve the nation back for next 5 years as a retreat. And that again with the same facilities means no salary. Afterall taxpayers never want to pay for irresponsible ones who are free monkeys like some JNUs stupids who chanted against nation and in data, they are the research scholars. Middle finger to them and here now we want to have a policy of give and take. At the age of 26-27 years, these learners would be so tough and talented that they will never ask for reservation but they can even easily create challenges for the top-notch companies and in reality that will be the so-called Azaadi from poverty.

Hope the above-said article was convincing enough to make you understand the remedy of the malfunctioning democracy. This will help us to get rid of the harmful effects of the so-called the largest democracy in the world. We know the strength of democracy lies in the ignorance of its people, So to get rid off all these ill effects the existing infrastructure needs to be modified by providing a square meal throughout the day. JNVs are there but that institute also divides students on the name of caste and religion, so we must have a machine/system/mechanism to wash every Indian brain with the same treatment and make everyone feel special as well as same.

Well, my first priority was education and second is the election where I propose that there must be some eligibility criteria and whoever possess those can be a candidate. Eligibility should demand that a candidate must have social work experience of atleast 5 years, achievements in terms of welfare of others, yes character certificate, formal education and While conducting election, election commission sould be giving equal funds to everyone with least wastage of money and most important there won’t be bullshit option like NOTA but nothing else than President’s rule.

The third change should be that in all government jobs the column questioning the caste and religion should be deleted.
Fourthly, There will be reservations only for differently abled people with low economic status.
Fifthly, If Kashmiri seperators don’t want to be with India give them choice among the Indian Ocean or Arabic Ocean, or better ask them to pack the bag and move to any of the country they want, free tickets may create wonder for them. But yes, no one does dare to pelt stone at the drop of a hat.
………
………
………
Many more proposals are there but let me check first whether I am speaking to the right people or not, are they getting me or not, So I request you all to please share your views also and do you agree with these proposals or should we add something more or these are just a waste. C’mon lest comment and share your views.

Share this post also if you liked it for mass awareness, and let us make it a social campaign of course with an agenda.
Two Indians.

Partha Banerjee
Sunny kumar

(Thank you for reading two indians concept.)

भारत बंद

आज वाला SC/ST द्वारा बन्द था, कल वाला करणी सेना द्वारा, उससे पहले वाला पाटीदार वाला, उससे पहले जाट, उससे पहले गुर्जर, उससे पहले…..
मने इस बन्द की राजनीति से तुमको मिलेगा क्या?? सुप्रीम कोर्ट क्या त्योहारों पे फैसला सुनाती रहेगी, ये राजनीतिक कैंसर से इलाज कैसे सम्भव हो सकेगा इसके लिए हमलोग कब सोचेंगे?
क्यों नहीं सरकार सबको समान शिक्षा-समान अवसर देती है और बदले में लाभान्वितों से कुछ वर्षों का मुफ्त राष्ट्रसेवा का प्रावधान रख देती? क्या टैक्सपेयर को लूट कर नेताजी मौज काटे, वाला रिवाज हमेशा लागू रहेगा??

खैर शहर जहां आज जाम था वहीं मेरे घर में प्लम्बर और पेंटर दोनो भारत को खोले हुए है, और उनको धन्यवाद वरना मेरे शहर में बेचैनी तो है ही गाँव भी बदहाल हो जाता।
खैर भारत के टुकड़े बहुत जल्द हो जाएंगे अगर हम सबने करैक्टर बिल्डिंग पे ध्यान नहीं दिया तो, नफरत को मन से न मिटाया तो, जातीयता नहीं छोड़ा तो, और फिर फायदा किसी दलित का नहीं होगा, किसी करनी सेना या पाटीदार या गुर्जर या किसी का नहीं होगा बल्कि आप पर हमपर हार्दिक, माया, अजीत जैसे लोग थोप दिए जाएंगे.. समझे कुछ?
मै सुप्रीम कोर्ट का समर्थन करता हूँ जो SC/ST एक्ट में गिरफ्तारी से पहले जांच चाहती है, न जाने इसमे औरों को बुरा क्या लगा? बहुत से मित्रों से, जो वाकई में नए भारत को दिशा देने में सक्षम है(पर किसी भी जात, धर्म वाले नेता नहीं है) से व्हाट्सएप्प चैट के आधार पर कह सकता हूँ कि जो लोग आज लाठियां भाज रहे थे उनमें से बहुतेरे को ये भी न पता था कि वो सड़कों पे थे क्यों, और ऐसे लोग का आरक्षण क्या कोई भी भला नहीं कर पायेगा, ये शायद ही कभी मीणा बन पाए।

काश हर प्रदर्शन किसी की जिम्मेवारी होती तो आज मुजफ्फरपुर मे जो छोटी बच्ची का सर फूटा या बदमेड जला या अन्य जगहों पे हिंसाएं हुई है तो उसके लिये लोगों को सजा मिलती या शायद तब इनकी ये हिम्मत न होती।
असहमत है तो अपनी बात रखे।

हो चरित्र निर्माण पर ज़ोर

जब देश में चरित्र निर्माण (Character Building) से ज्यादा महत्वपूर्ण मुखौटा निर्माण (Personality Building) होगा तो देश को खतरा कैंसर से नहीं करप्शन से ही होगा।
आज हर प्रोफेसन बदनाम है, और हम सबमें व्याप्त करप्शन का कीड़ा हावी हुआ है, और कमोबेश आज ईमानदार सिर्फ वही बचे है जिनको बेईमानी का मौका नहीं मिला है। चाहे रोड पे कचरा करना हो या देश का, यह सब हम और आप ही कर रहे और हर दिन अपने को कमजोर कर रहे है, स्थिती वैसी ही है कि कहीं हम ट्रेन से पंखा खोल के ले जाते, तो कहीं सड़कों से ईंट उखाड़ कर तो कहीं बिजली चोरी या तार उड़ाकर। मेरा मतलब हम सब का( सिर्फ नेता कभी नहीं) चारित्रिक पतन हो रहा और अब पर्सनालिटी डेवलोपमेन्ट से ज्यादा वैल्यूज पे बल दिया जाना चाहिए वरना देश के लिए लाखों मुश्किल तैयार है जो इतिहास और भूगोल दोनों बदल देगी।

आप क्या कहते है?

आजाद आप हमेशा याद रहोगे, अमर रहोगे!

गुलाम भारत में जो वीर पैदा हुआ, जिसने देश प्रेम के लिए अंग्रेजों से लोहा लेते हुए खुद को गोली मार दी, उस वीर को सत् सत् नमन। नमन उस सोंच को जिसने खुद को आजाद कहा, नमन उस सोंच को जिसने स्वराज के लिए अपने प्राण त्याग दिए।

अब बात जरा आजाद भारत की जहाँ अफजल, याकूब के निर्लज्ज समर्थन की बात हुयी फिर रोहित वेमुल्ला को शहीद बताया गया.. आजाद भारत में आंदोलनों के नाम पर नौटँकीयां खूब हुयी है और आज लोग खुद को आजाद नहीं कहते आज तो दलित कहाने की होड़ है, फर्जी जाति प्रमाण पत्र बनते है, हिन्दू क्या भारत के मुसलमान और ईसाईयों में भी जाति व्यवस्था हो आयी बल्कि बढ़ी है… आज स्वराज को नहीं बल्कि आरक्षण के लिए लड़ाई हो रही, क्या जाट, क्या पटेल पूरा देश मुफ़्त की मलाई चाटने को न केवल स्वाभिमान का बल्कि हमारी एकता का भी सौदा कर रहे और ऐसी स्थिति में आजाद को समझना- समझाना मुश्किल हो रहा है!ऐसा क्यों?

निवेदन: शब्दों को महत्व दे

Krishna is everywhere and so in WORDS.. और फिर अक्षर ही ब्रह्म है, अमर है जो हमेशा वायुमण्डल में मौजूद रहेगा, विज्ञान भी यही कहता है ये ध्वनि आपके कानों से दूर जाएगी, खत्म नहीं होगी, सो इस ब्रह्म को सलीक़े से उपयोग में ले इसकी जिम्मेदारी हमारी और आपकी सबकी बराबर है। बाबा कबीर भी यही बोले थे कि “बोली एक अमोल है, जो कोई बोले जानी, हिये तराजू तौली के, तब मुख बाहर आनी। In short we should be selective with our words because it not just imprints in others compiler that further may boost his program execution but if it goes in wrong way then things will give error.. (Hope you get it.)
-आधुनिक विचारों के प्रतिपादक आचार्य श्री श्री १००८ सन्नी कुमार जी महाराज

इस वसंत रूपांतरण के कुछ पुष्प खिलाएँ

Image result for rose plant having full thronesउस पौधे में फूल बमुश्किल चार थे और काँटे हजार, फिर भी उसे गुलाब का पेड़ कहा गया, न कि काँटों का। हो सकता है हम सब में भी हजार बुराई-रूपी काँटे हो पर जरूरत है कि हम उन अच्छाई-रूपी फूलों को संवारे-सहेजे, जिसकी खूबसूरती औरों को आकर्षित करे और जिसकी खुशबू आसपास को सुगंधित करे। आए इस वसंत रूपांतरण के कुछ पुष्प खिलाएँ।

Pic credit: Google Image

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: