Open Letter to School Managements

Dear School Managements/Decision Makers,
You are very much aware of the current situation and I am thankful that your school has not halted the process of knowledge sharing and teachers are doing better to keep students engaged through online classes. Thank you for giving them the authority to do so. I am writing this letter to share my three concerns and would be happy if you already applied these, If not please do so and thank you for the same in advance. Below are my requests/concerns.
1. You know Online classes require more preparedness from a teacher, it requires added skillsets and it is not an easy job but they are doing it. Almost every private teachers are taking classes during this locked-down which should be appreciated with timely salary. (Still, there are many schools which haven’t paid for March.)
 
2. Another fact is online classes need least infra expenses and almost every school is using free tools to cater to education and hence they must give a fair relaxation to the parents or a kind of #Giveup campaign can be run for efficient parents and aids can be provided to comparatively EWS, this is what a wonderful family can do to fight it together.
 
3. Need not to forget that the marginalised ones are the support staffs, be it transport staffs, cleaning staffs or others they should be given salary on priority, as they hardly have a saving, reason managements better understand and this can easily be managed by the development fees so far schools have taken.
 
On a lighter note public gathering is not allowed so all your unnecessary expenses are managed, use those funds for your extended family members i.e. your staffs.
 
Written because I had an input that some of you read me and expects that It goes to yous in the right frequency.
Best Wishes.
#ShowSomeValue #FightItTogether

मदर्स डे विशेष

कल फेसबुक पे नहीं था क्योंकि घर में था, अपने बेटे के पास, मेरे पापा के साथ, साथ में उसकी माँ भी थी और मेरी माँ भी… इतवार बहुत अच्छा गुजरा। मुझे मदर्स डे की जानकारी नहीं थी और न ही कोई फेसबुकिया इमोशन जागा था पर जब भाई ने सुबह-सुबह माँ फोन कर विश किया तब मालुम हुआ। खैर मैं ढीठ हूँ, मैंने उसके बाद भी माँ को विश नहीं किया और बस उसके साथ हमेशा की तरह चिढ़ना-चिढ़ाना में भिड़ा रहा…
बाद में जब अपने कमरे में आया तो बीबी ने आकर समझाया कि आज तो पूरी दुनिया माँ को सिर्फ मान दे रही है फिर आप आज भी बच्चों की तरह कर क्यों रहे हो? ये बेवजह का चिढ़ना-चिढ़ाना….मैंने बिच में ही टोकते हुए कहा कि मैं आज भी उसका बच्चा ही तो हूँ और जैसे तुम्हारे अद्विक को तुम्हे कुछ बताने के लिए शब्द नहीं चाहिए, मुझे भी नहीं चाहिए। माँ के साथ हूँ, माँ सब समझ रही है तभी उसको माँ ने बाहर बुलाया, शायद वो हमे सुन गयी थी।
अब वापिस जब मेरी बीबी आयी तो बोली की माँ को मार्किट जाना है… लो अब तो मैं और चिढ गया कि यार शाम में मुझे वापिस गया जाना है और इस धुप में बाहर! पर माँ ने कहा था, मदर्स डे के दिन एन्टी मदर टैग न बीबी लगा दे तो मैंने हामी भरी और तुरत तैयार होकर बाजार के लिए निकले जहाँ माँ एक घड़ी के दुकान में लेकर गयी, बोली प्रीती के लिए घड़ी देखनी है, मुझे anniversary गिफ्ट का सुझा कि अभी ही ले रही , पर उधर जा कर उसने मेरे लिए घड़ी खरीदी, बाद में कहा कि प्रीती के लिए अगले सन्डे जब आओगे तब ले लेंगे…
जब घर पहुंचे और सबको मिठाई दी तो बीबी बोली कि खूब हो आप तो, मदर डे पर बस मिठाई? मम्मी को तो कुछ अलग दीजिये, फिर मैंने चिढ़ाते हुए अपनी घड़ी दिखाई….. और त्वरित कमेंट आया कि आपका सिर्फ इनकमिंग है? हम दोनों नोक झोंक में उलझ गए और माँ मुस्कुराते हुए चली गयी और फिर उसने सबको मिठाई, समोसा दिया।

शाम में घर से निकलते वक़्त उसके जब पाँव छुए तो उसने 100 रूपये का नोट जेब में डाल दीया…हम बोले की कल सैलरी आ जायेगी माँ, वो बोली अगर नहीं आती तो 100 रूपये में जी लेता क्या? दोनों हंसे और फिर मैं घर से गया के लिए निकल गया।

अभी रात में 1 बजे जब गया पहुँच गया तब जाकर घरवालों को नींद आयी है। बीबी को अब भी चैन नहीं थी, बोली अगली बार जब आप आएंगे मैं और आप दोनों चलेंगे और कुछ मम्मी के लिए खरीदेंगे.. हम मुस्कुराये बोले हमारा तो सिर्फ इनकमिंग है, हाँ अगर तुम कुछ कांफ्रेंस टाइप करा दो तो जरूर चलेंगे.. उ बुझी नहीं, हम बुझाए नहीं पर मेरी और अद्विक दोनों की माँ, और सबकी माँ बच्चों को बुझती है भले शब्द हो या निशब्द…
मेरा अद्विक मुझे वो सब याद दिला रहा जो मुझे कभी याद नहीं था, आज जान रहा हूँ की बच्चे कैसे अपने माँ को उसकी धड़कन से, उसके शरीर के गर्मी से जान लेता है और कैसे एक माँ पूरी रात जगकर अपने बच्चे को फीड करती है पर नाराज नहीं होती, न किसी को खबर होने देती की उसको रात भर जगना परा. अब ये भी जान रहा हूँ की एक बच्चे और माँ दोनों का जन्म भी एक ही दिन होता है दोनों के लिए हर दिन विशेस है..
#मदर्स_डे_विशेष

The Shrewd Teacher

There was a man who wanted to rule the people but he was not strong enough to fight, He was not rich enough to lure people by money but he was shrewd enough to find more fools and so he became a teacher.
Yes, a teacher, who actually had the vision to rule, to live a lavish life, to enjoy all good and bad this world can offer, so he initiated the process. And step1 was to teach…
He called some prospects whom he thought to be fit to become his disciple and like every teacher, before starting the course he shared the classroom rules as…
Rule 1. You have to accept the formulas driven by me.
Rule 2. You will understand the formulas on your own and If you don’t; It means you are not efficient enough and your brain is not worthy
Rule 3. I would give prizes and a certain share of my income to those who understand the formulas and help to grow more disciples to me.
Very few got convinced and rest of them have left the Teacher.
Now everyday teacher was giving them the new formulas and disciples were remembering those as there was no room to reason or build logic before memorizing but yes some formulas were good, some were not of use, some had values and some derogatory and students wanted to raise a question but they very well knowing that they are into “NO QUESTION ZONE” and if they ask their brain will be labelled as a fool and no students like to have this level, isn’t it? So all students started following the teacher blindly and in fact, they were waiting for the fruits, the prize and share promised.
Meanwhile, the teacher was noticed by an ultra-rich woman who was impressed by teachers success and proposed him to get married. Now when they got married it was a buzz in the city because the teacher had nothing except few students and the woman had everything, so this talk made people vigilant and this is all what teacher had planned for Step 2.
Now Teacher initiated Step 2, As promised to students, he given good clothes, sweets and a handsome amount to his disciples and asked them to deliver formulas as it is and added that these formulas are so great that only genius can understand so you don’t have the discussion, those who will understand will join our Institute and rest will be blinded because the formula has not chosen them. He promised more share this time with the students.
Like every other Industry, this education industry also had a great competition and other teachers, who were still unknown to his vision behind teaching were discussing in a great surprise as they can’t believe how he can have a such number of students, he who hardly can understand or add any value to life but then the city was going mad with that teacher who has revolutionised the process by paying to students, and now even unemployed teachers started flowing with herds. Soon he got recognised as the kindest teacher in the city and the numbers get multiplied in no time.
With these great responses Now the teacher had called disciples and started step 3, and asked them to have a relation with only those who understand the formula and those who don’t are fools, so just ignore. With such a huge mass, he slowly pushed all his items, his disciple’s centres products became the master of masters. Very soon almost everyone in fear of the loose business started joining the camp and his monopoly got awarded. (A wise man had stated that If a speaker and his audience both knew that it is a lie and still they appreciate each other then such lies are not a crime.)
Now He who actually wanted to rule had initiated his final and 4th stage by adding another formula. He said all these formulas which I’ve driven are the only truth which will help this world to rotate if you stop spreading formula this world won’t rotate, so you all are a saviour and you have to safeguard this formula always. He added You all are genius who understand it, and the only genius brains will understand it all and we don’t want to defame this city with fools living here, so let’s share this formula to all, If they understand fine or else they should leave this city because this city is great, this formula is great..Some monitors shouted our Sir is Great Our Sir is Great…and then that teacher became the ruler without thrones, who killed the quests in mind and made it barren. Logic and reasoning were not allowed there anymore.
(Disclaimer- This story is a pure lie and Shri Shri (Ravishankar Nahi) doesn’t take any responsibility if you resembles the characters. Sharing or copying Intellectual properties are sin and we are not in that city so behave. Take Care.)
BTW on a lighter note, one of my senior who was colleague once had asked me once “Sunny Sir, What do you think what kind of business McDonald doing?” I said it is obvious, tell me what you wanted to..and he added they are actually doing the real estate business, everywhere without owning anything their nameplate is in almost every city….Franchise model we both understand but the message was hidden, Jo dikhta hai wahi ho jaruri nahi hai…Invest your time in reading. Stay Home, Stay Blessed. 🙂

 

शाहरुख या अनुराग, शेरू को कौन कहेगा कुत्ता?

अगर आपने नोटिस किया हो तो एक चीज जिससे मार्क ज़ुकरबर्ग भी परेशान है वह फेक न्यूज नही है, वह है एक ही न्यूज को शेयर करने के तरीके और टाइमिंग की, ठीक वैसे ही जैसे जामिया की फुटेज जब पुलिस के द्वारा मांगी गई तब तो मिली नहीं और महीने दिन बाद जब वीडियो आई तो टुकड़ों में, वही नकाब लगाए पढ़ाकू बच्चे जिनको पुलिस बेरहमी से पीट रही थी, पर उससे पहले क्या हुआ था, बच्चे नकाब में क्यों थे, ये सब सवाल करने पर आप साम्प्रदायिक हो जाएंगे, फिर भी उस वीडियो को रलीज करने में महीने दिन क्यों लगे होंगे यह आप स्वयं तय करे! खैर आज कुछ और, वह यह कि शुरुआत में #CAA समर्थकों ने जिस तरह शेरू को कुत्ता है-कुत्ता है कहना शुरू किया, वही शेरू जिसने पुलिस पर फायरिंग की तब विशेष लोगो को लगने लगा कि कुत्ता तो उन्हें ही कहा जा रहा, फिर क्या किया जाए, क्या किया जाए तभी सबको बचाने हमारे मैगसेसिया छेनू आये जिन्होंने बड़ी चालाकी से, सोशल मीडिया में फैलती अफवाहों का सहारा लिया, या अफवाह क्रिएट किया और शेरू कुत्ता है या नहीं है कहकर इसकी क्रेडिबिलिटी पर सवाल उठाया और बताया कि यह तो दूसरे नस्ल का है, हमारा वाला तो अलग होता है, फिर क्या शेरू दूसरे का है, एक मिलते जुलते भेड़ की ओर इशारा हुआ, शियार हु-हु करने लगे कि शेरू हमारा नहीं है, यह कुत्ता है, दूसरे का है, कुत्ता है, कुत्ते को फाँसी दो, अब फाँसी मांगती पोस्ट में मुझ बैल को भी मेरे ही एक बछड़े ने टैग किया। मेरा स्टैंड तो वही था/है/रहेगा की तुम्हारा हो या मेरा हो, चुकि अब शेरू वफ़ादार कुत्ता नहीं है, पागल है तो सजा होनी ही चाहिए। उनकी मांगों में फांसी थी, हमने भी कहा दे दो, हमने उत्साह मे यह भी कहा कि तुमको तुम्हारे ऊपरवाले का वास्ता कल को पोस्ट डिलीट न कर देना, समझदार लोग बहुत कम थे पर कुछ वहां भी थे सो लाइक भी आया, हर्ट भी, पर साहब आफत आ गयी, लोकतंत्र पर हमला हो गया, पुलिस ने शेरू को पकड़ लिया, और वह उनका है साबित हो गया। ऐसा होते ही आनन-फानन फांसी मांगते पोस्ट डिलेट होने लगे थे और अब शेरू के एक्सरसाइज करते वीडियो सामने आने लगे, मीडिया उसके अच्छे कर्म ढूंढने लग गई, मालूम हुआ शेरू बिरयानी बाँटता था और टिकटोक वीडियो बनाने में उसका खूब मन लगता था, ज्यादा कुछ (अच्छा) मिला नही जससे उसे सिस्टम का विक्टिम बताया जा सके इसलिए छेनू समाज को सद्भावना का पाठ पढ़ाने लग गए!

खैर वह जमात जो कल तक फाँसी मांग रहा था शेरू को फिर से हीरो बताने लग गया है.. मुझे जो उम्मीद थी, वह ध्वस्त हुई, वह पोस्ट भी जिसमे मुझे टैग किया था मिलता नहीं, सोंचता हूँ कम से कम वह लड़का माफी मांग लेगा पर वह भी उसी दुनिया मे रहना चाहता है, उसकी ख़ैरियत की चिंता है क्योंकि विषपान से भला किसका होता है….पर आरोप सन्नी सर पर है कि आप कुत्तों को कुत्ता कहने से पहले देखते क्यों नहीं कि किसका है..देखना चाहिए क्या?

#डियर_सेकंड_मेजॉरिटी_ऑफ_इंडिया

#डियर_सेकंड_मेजॉरिटी_ऑफ_इंडिया
आज जो लोग भारत के संविधान की दुहाई देते फिरते है, मौजूदा सरकार पर साम्प्रदायिक होने का आरोप लगाते है क्या उनसे नहीं पूछा जाना चाहिये की अगर आपको भारत के सम्विधान में अटूट आस्था है तो फिर मज़हबी आधार पर पर्सनल लॉ बोर्ड(आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड, आल इंडिया सिया मुस्लिम लॉ बोर्ड, आल इंडिया मुस्लिम वीमेन पर्सनल लॉ बोर्ड, सभी 70 के दशक या उसके बाद बने) की आवश्यकता क्यों??
क्या एक धर्मनिरपेक्ष देश मे इसकी आवश्यकता थी, किन कारणों से आपको अपना अलग लॉ बोर्ड बनाना पड़ता है और क्यों वह बोर्ड इतने सालों से महिलाओं के हक को दबाता रहा?
आज की सरकार देश को खंडित कर रही है, सेक्युलयर सिस्टम को बर्बाद कर रही है, ऐसा वही लोग कहते है जिनके रहते कश्मीर सिर्फ़ मानचित्र में हमारा था और वहाँ भारत के खिलाफ़ जिहाद की फैक्ट्री खोली गई थी, जिनका अपना कानून अपना झंडा था, आज नहीं है तो मोदी देश तोड़ रहा है??
बहरहाल नौकरी की समस्याएं पर सरकार को घेरे स्वागत है, अगर बेहतर शिक्षा और स्वास्थ्य के लिए धरने पर जाते है, साथ है, अगर आप CAA से कितने लोगों को नागरिकता मिली यह पूछते है तो जिज्ञासा सकारात्मक है पर यह कहना कि मौजूदा सरकार धर्म के आधार पर भेदभाव करता है कितना न्यायोचित है स्वयं से पूछे, आपका पर्सनल लॉ बोर्ड सिविल कोड में कितना यकीन रखता है, आप समझते है पर दुर्भाग्य से आपको शिक्षित राष्ट्रवादी आरिफ़ मोहम्मद साहब जैसों की बातें नहीं भाती जो किसी भी तरह के पर्सनल लॉ बोर्ड के खिलाफ है, आज आप एनपीआर का विरोध करेंगे, सरकार को डेटा जुटाने नहीं देंगे कल अगर यूनिफार्म सिविल कोड का विरोध और सब के पीछे यह कहकर की देश बचा रहे, अगर वाकई बचा रहे है? धर्मनिरपेक्ष है??

Seeker Vs Believer

India was a land of seekers which gradually converted into believers. There is a difference! A seeker wanders, observes, interprets, question and always has an eternal way of understanding but believer just believe, they have a fixed path, similar answers and no quest for themselves. Seekers welcome questions, they answer their questions with many other questions, they keep creating dots and when they join it all, they give a new view to life on the other hand believers just belive. In a single sentence, seekers experiences whereas believers believe others experiences.

All the Heroes from different religions who are worshipped today were seekers, wanderers, they experienced life from a different angle and they just don’t believe something as a believe they question, with themselves and when they understand then they populate it. Today When talking about religion or spirituality is mostly for the conversion of faith or vote and the beauty of the process has been whitewashed. We are too quick to get an answer and the process of exploration, experience has been given less importance. Science has grown exponentially, they are seekers, they don’t believe something just to belive or to create crowd but with the religious world, today questioning religion seems a crime, countries have blasphemy laws, while deep within everyone knows no matter how well you pack, a useless gift is useless only. So instead of packing improve the quality of the gift, instead of expecting from others improve ourselves, instead of a readymade knowledge, enjoy the process to attain it. Life is bigger than rice bags, this land guided the world in the past, this land has given a greater view of life, Steve enjoyed it, you also can!! I am not against believers but the first step is to be a seeker, nature follows it, science follows it, the saints knew its importance and enjoyed life, we all must.

Happy Promise Day, Promise Yourself To Be A Seeker First.

(Seeker – Investigator, explorer, searcher, seeker, investigator)

-Shri Shri (Ravishankar Nahin)

विरोध कब कब?

रोहिंग्या के समर्थन में इस देश के किस शहर में सभाएं नहीं हुई, आजाद पार्क में इन्ही रोहिंग्यों के समर्थन में शहीद स्मारक को भी तोड़ दिया था वतनपरस्तो(?) ने पर सवाल है क्या फिलिस्तीन(गाज़ा) और रोहिंग्या(म्यांमार) भारत के लोग थे, नहीं थे, क्या यह जुल्म भारतीय सेना कर रही थी, नहीं?फिर उनके समर्थन में इस देश का विरोध क्यों? जवाब शायद यह हो कि यह देश का विरोध नहीं था बस उन मजलूमों के हक़ का समर्थन था? फिर इस देश की सम्पत्ति जलाने का, हमारे प्रतीक चिन्हों का हमारे भावनाओं पर हमला करने की जुर्रत और जरूरत क्यो आई??
और इन्हीं मानवतावादी लोगों से यह प्रश्न की क्या आप बताएंगे कि पाकिस्तान और बंग्लादेश जो फिलिस्तीन की तरह मिलों दूर नहीं बल्कि पड़ोस में ही है उनके यहां के अल्पसंख्यको की आवाज़ आपने कितनी बार उठाई, स्टेटिक्स क्या कहते है और इन तीनों देशो में अल्पसंख्यको के साथ सलूक का अंतर कितना है, सिर्फ गाज़ा और रोहिंग्या ही क्यों याद आते है जबकि यजीदियों की पूरी नस्ल बर्बाद हो गई है, सीरिया मुल्क है या बम की क्षमता मापने वाला भूभाग अब यह नहीं समझ आता आपकी उनपर चुप्पी क्यों? आपने कितनी बार बंगलादेशी हिंदुओं के हक के लिए, यहां तक कि कश्मीरी अल्पसंख्यको के लिए मोर्च देखे? नहीं देखे न, पर अब आप शायद देख पाए, क्योंकि यह रोग फैल गया है, अब हर चीज पहले धर्म देखकर होगा और इसकी शुरुआत सोशल मीडिया खंगाले अपने आसपास घटी घटनाओं को देखेंगे तो देर न होगा समझने में।
मैन देखा है कि पटना मुजफ्फरपुर, गया जैसे छोटे शहर में भी लोग गाज़ा के लिए सड़कों पर उतरते है, कौन होते हौ ये लोग फिलिस्तीनी और रोहिंग्यों से इनका क्या रिश्ता है, मानवतावादी है, फिर तो कुर्दो के लिए भी लड़े होंगे, मलाला की आवाज़ बुलंद की होगी, कश्मीरी अल्पसंख्यको के साथ हुए न्याय पर जश्न मनाया होगा, पाकिस्तानी अल्पसंख्यको के लिए भी चिंतित होते होंगे? नहीं! क्यों भाई क्या सेक्युलर ऐसे नही होते है?? अगर ऐसा है तो फिर मोदी-शाह तो आपके शिष्य है, आप दोनों में अंतर क्या है? खुद से पूछिए?

बहरहाल मैं CAB के पक्ष में नहीं हूँ क्योंकि हमारे आसाम के भाई-बहन इससे चिंतित है, उनका विश्वास जितना आवश्यक है, देश को यह बताया जाए कि भारत से कितने घुसपैठिये भगाए जा रहे, कितने बसाए जा रहे। मैं इसके पीछे की सोंच से संतुष्ट हूँ और ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि हर कमजोर को विकल्प मिले, चाहे वो कोई फिलिस्तीनी-सीरिया का मुसलमान हो, या इराक के कूर्द, या ईरान के पारसी या पाकिस्तानी हिन्दू, सबके लिए एक देश हो जो उनके उम्मीद ढो सके, मुझे यकीन है कि इस देश के रोहिंग्या मुसलमानों को हमारे पड़ोसी देश जो खुद को इस्लामिक देश भी कहते है जगह देंगे और म्यांमार में हुए उनसे अन्याय को हल करेंगे, शेख हसीना ने तो रोहिंग्यों के लिए शानदार बाते भी कहीं है अखबरों में पढ़ ले।
एक बात और ज्यादा चिंतित न हो रवीश जी की माने तो अब तक मात्र 4000 पेटिशसन है धार्मिक विस्थापितों के जो इस देश मे जगह चाहते है और यह बिल्कुल सच है कि सरकार वोटबैंक की राजनीति कर रही यह भी सच है पर उनकी इस राजनीति से जिनको फायदा मिलेगा वह वाकई में सताए गए लोग है जिनकी बहु-बेटियों को तैमूर सोंच के लोग आज भी लुटते है, जबरन धर्म परिवर्तन एक काला सच है, क्या ऐसे लोगो को जीने का हक नहीं, क्या इतनी उदारता भारतवर्ष को नहीं दिखाना चाहिए, आपको क्या ऐसा लगता है कि अन्य धर्म के लोग इस देश मे नहीं रह पाएंगे? साहब अदनान सामी को इसी सरकार न नागरिकता दी है, तारिक़ फ़तेह जिसे अब आप भारतीय एजेंट के रूप में जानते होंगे यही है ये दोनों भी पाकिस्तानी मुसलमान ही थे इनको CAB से कितना डर है, क्या उनको इस देश मे डर लगता है पूछे उनसे? तस्लीमा नसरीन को भी जब अपने मुल्क में डर लगा तो डेरा यही उदार देश देता रहा, अब आज कुछ 4000 हिंदुओं का विरोध क्यों??आपको क्या लगता है कि वो इस देश में पाकिस्तान में कोई फिदायीन हमला करके भागे है, या बर्बर है या यहाँ आकर शहीद स्मारक तोड़ेंगे या ट्रेनों में पत्थर मारेंगे?? ये दबे कुचले लोग है, रोहिंगया भी है, यजीदी भी है, सीरिया के लोग भी है, पर रोहिंगया और सीरिया के लिए 56 देश है जो खुद को इस्लामिक कंट्री कहते है पर इन हिंदुओं की आस पूरे विश्वपटल पर यही एक सेक्युलर भूभाग है, यह झूठ है क्या??

अल्पसंख्यकों से विश्व का बर्ताव

इराक में कूर्द,
पाकिस्तान में हिन्दू,
कश्मीर में पंडित,
म्यांमार में मुस्लिम,
जर्मनी में यहूदी,
अरब में काफ़िर,
अल्पसंख्यक है,
इनसे व्यवहार कैसा है,
वहां कानून कैसा है,
जिस दिन इन मुद्दों पर बहस हुई पता लग जायेगा कि जिस जन्नत की बातें पाक किताबों में है, वह मादरे वतन हिंद है, जिसने विस्थापितों को जगह दिया, मान-सम्मान दिया, वो चाहे जर्मनी के सताए यहूदी हो, या ईरान के पारसी, या पाकिस्तान-बंग्लादेश का राजनैतिक विस्थापित, इस मुल्क के आध्यात्मिक सोंच ने बौद्ध और जैन जैसे महान धर्म दिए जिनके ईकोसिस्टम को समझने की आज जरूरत है। आप जिस भाईचारे की, शांति की बात करते है उसकी प्रेरणा पूरे विश्व मे भारत जैसे देश ही देता है जहाँ कुछ टुच्चे पत्तलकार, चाटुकार और अपनी राजनीति चमकाने वाले चौधरी अल्पसंख्यक को उकसाना चाहते है, पर यह देश अगर अल्पंसख्यक का विरोधी होत तो यह देश टाटा को खो चुका होता, मनमोहन सिंह जी जैसा प्रधान न पाता, कलाम साहब ने जितना इसकी सेवा की, जिस सेक्युलर फैब्रिक को वो ओढ़ते थे वह मिसाल है, इरफान पठान और नवाजुद्दीन सिद्दकी बताये कब कब भेद हुआ उनसे, मेरे दोनो ही फेवरिट है, बाबा साहेव प्रवर्तित बौद्ध थे, उनको इस देश का संविधान गढ़ने दिया और उनका भी सम्मान करते है। आज कुछ सामाजिक और धार्मिक कुरीतियों से बाहर आने का एक लक्ष्य जिसपे देश और हम अग्रसर है फिर ये हर बार माइनॉरिटी को भरमाने की क्या आवश्यक्ता?? अपना ही उदाहरण देता हुँ शुक्रवार को हाफ टाइम में छुट्टी लेने वाले सहकर्मियों के बीच मे रहा हूँ, उनकी सेवई खाई और जब उन्होंने दीवाली का लड्डु नहीं खाया तो ठगा हुआ महसूस हुआ पर इसको कितना ढोए, हम भी नफरत करे जबकि वही बहुत से और भी थे जो बैलेंस बलाना जानते थे…इसी बैलेंस को बनाये रखेंगे थोड़ा इतिहास खुद पढेंगे, तो आपको समझ आएगा कि 56 देश जो इस्लामिक है वहाँ अन्य देशों के लोगो को को यहाँ तक कि मुसलमानों को क्या हक़ मिले है, वहाँ महिला अधिकार कितने है, पर नहीं आपकी नजर इज़राइल पर है, फिलिस्तीन की चिंता में आप मुंबई उजाड़ देते है पर आप ईरान इराक़ और सीरिया पर चुप है और फिर सेव गाज़ा सेव रोहिंज्ञा के लिए सड़कों पर है। एक ओर आप 370 के विरोध में है कि कश्मीरियों के अधिकार सीमित हो जाएंगे पर पंडितों को भूल गए, खुद राहुल बाबा भी कश्मीर से अमेठी और अब तो केरल सेटल हो गए. क्या उनपर जुल्म नही हुआ?? खैर ये राजनीति है हम और आप बैलेंस कैसे बनाये इस पर सोंचे, एक समाज बाहरी मुद्दों पर कभी तख्ती नही उठाता और आप अगर जागरूक लोग है और वैश्विक मुद्दे भी उठाते है तो प्लीज कुर्दों की भी आवाज बनिये, सीरिया को भी बचाइए, अपने देश के अच्छे चीजों के लिए भी धन्यवाद दीजिये, अल्पसंख्यक कोटा में हुए वृद्धि को सराहिये, और प्लीज CAB, NRC जिसका भी विरोध या समर्थन करना है करे पर ट्रेनों पर हमला करना, एम्बुलेंस को निशाना बनाना, पुलिस के खदेड़ना शोभता है, और जब वही पुलिस पेल दे तो मजलूम हो जाना यह सही है? हम और आप बुद्धिमान बने, हम किसी मैग्सेसे की होड़ में नहीं है, गुजरात हो या गोधरा, कश्मीर 1990 का हो या 2019 का, बर्बाद हमलोग होएंगे क्योंकि Primetime वाला पत्रकार या हमारा कोई नेता लाठी नहीं खायेगा, इसलिए बैलेंस बनाये, हमारी सुरक्षा हमारी भी जिम्मेदारी है, CAB को पहले समझिए फिर समर्थन और विरोध तय कीजिये, भारत को कम्युनल बनने की राह में धकेलने से बचे यह सबकी जिम्मेदारी है!
सन्नी कुमार
मुझे आप अपने नजर से देखने के लिए स्वतंत्र है, पर एक आग्रह भी है कि खुद को भी कभी अपनी नजर में तौलिए, सब बुझ जायेगा..

इतिहास और चाटुकार

भारतीय विद्यालयों में इतिहास को एक सस्ते नोबेल की तरह पढ़ाया जाता है, तथ्य कम कहानी ज्यादा, बहुत कम छात्रों (कुछेक शिक्षकों) को आर्थिक इतिहास की ज्यादा जानकारी नहीं है, उन्हें तो मुगल और ब्रिटिश गुलामियों के वृहत कारणों का आभास भी नहीं पर उद्देश्य जो बहुत हद तक परीक्षा में अच्छे अंक लाना है, वह सफल बोले तो नम्बर शत प्रतिशत। अब समय है कि हमारे इतिहास को बिना सुगर कोट किये हुए ऐज इट इज़ पढ़ाया जाए, विदेशी लेखकों का भी रेफेरेंस हो और यह भी बताया जाए कि कैसे 18वीं शताब्दी तक दुनिया की सबसे बड़ी GDP, 21वीं शताब्दी में स्वतंत्र के बाद ज्यादा शिक्षित होने के बाद भी पिछड़ कैसे और क्यों गया? आज के छात्रों को यह भी समझना होगा कि राष्ट्रीयता का क्या महत्व है और क्यों आपसे ज्यादा आज राष्ट्र महत्वपूर्ण है। राष्ट्र के महत्व को पहचानने वाले वीरों हजारों-लाखों देश भक्तों ने अपना सर्वस्व न्योछावर किया था, उनका यह समर्पण हमारे फ्री नेट से देश विरोधी स्लोगन के लिए नहीं था न ही उनका बलिदान आपके उस व्यभिचारी अभिव्यक्ति की आजादी के लिए था जिसके बुर्के से आप सेना पर पत्थर बरसाते हो या देश मे विभिन्न धार्मिक और जातीय गोलबंद कर राष्ट्र की संपत्तियों को, इसके मान को क्षति पहुँचाते है।
खैर आज भारत बदल रहा है। चूहे परेशान है पर अगर दूरगामी फसल बचाना है तो किसान को असहिष्णु होना होगा वरना एक बार फिर इतिहास दुहराया जाएगा और कलम के चाटुकार उसे सुगरकोट करके ईनाम पाएंगे! एक बात और सिर्फ इतिहास नहीं आस पास के भूगोल का भी ध्यान रखे विस्तृत जानकारी मिलने पर! गलत के लिए असहिष्णु बने और एक सशक्त राष्ट्र के लिए सच के साथ खड़े हो किसी प्रोपेगेंडा के साथ नहीं।
साभार

Giriraj Singh is leading

Begusarai seat is a high profile seat where BJP fire brand leader Giriraj Singh and notorious PHD holder JNU student leader Mr Kanhaiya Kumar is contesting. As counting has started and so far it is Giriraj Singh Who is leading with a margin of approx 50000 votes and kanhaiya is on 2nd position.

NDA is doing exceptionally well in Bihar and was leading on 33 seats out 35 seats where counting begun. There are 40 seats and as per exit polls NDA may win 37 seats here.

Jehanabad RJD leader Surendra Yadav is leading where BjP candidate Mr. Chandravanshi is trailing.

HAM candidate and ex CM of Bihar Mr Manjhi is trailing and Vijay

Manjhi is leading in Gaya.

Muzaffarpur seat is also being lead by BJP Mr. Nishad. Somehow Bihar has turned saffron today.

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: