चलो आज हिसाब करते

FB_20170908_20_31_01_Saved_Pictureचलो आज हिसाब करते है,
कि हम तुमपर कितना मरते है,
क्या तुमसे खरीदना चाहते है,
क्या तुमको बेचना चाहते है,
क्या तुझमें मुझे लुभाता है,
चलो आज हिसाब करते है।

तुमको तो खबर ही है,
तुम्हारी हंसी मुझे लुभाती है,
कुछ कहो तो हम खो जाते है,
देखे थे जो कभी ख्वाब,
उनसे  हकीकत में मिल आते है।
चलो आज हिसाब करते है,
कि हम तुमपर कितना मरते है।

तुम्हारी हंसी हर बार जोड़ते है,
चिंताओं को घटाते है,
मिले जो प्यार हमको तुमसे,
उसे हर बार गुणा करते है,
है तुममें अच्छाई इतनी,
कि उसका भाग लगा लेते है,
कुछ इस तरह से प्यार है तुमसे,
हर लम्हों में लाभ कमा लेते है।

तुमको हो हर बार मुनाफा,
सो अक्सर अपना नुकसान उठा लेते है,
अपने शब्दों का करके निवेश,
तुम्हारी हंसी का लाभ कमा लेते है,
कुछ ऐसा है तुमसे बेजोड़ मतलब,
हर बार ही तुमको जीता देते है….
-सन्नी कुमार

(Dedicated to Beautiful Balikavadhu)

Advertisements

हरकत काफिराना कर आया..

IMG-20170904-WA0019दुआओं में था फिर भी मैं एक खता कर आया,
जिक्र फिर से महबूब का कर, खुदा को शायद खफा कर आया,
मासूम था मैं फिर भी गुनाह-ए-अजीम कर आया,
खफा हो खुदा तो दो पल को है मंजूर,
पर ना खफा हो कभी मेरा महबूब,
ऐसा उस रहम-दिल खुदा से मिन्नतें कर आया,
काफिर हूँ यारों, फिर से हरकत काफिराना कर आया,
उसके दर पर उससे बातों में जिक्र सिर्फ महबूब का कर आया।
सन्नी कुमार
May v all always b blessed. May d supreme showers more n more love peace n prosperity in all of yours life.

नव वर्ष की मंगलकामनाएं

1st-Jan-16(4).नव वर्ष में, हर नए दिन में,
हम कुछ नया करे, बेहतर करे,
कल से बेहतर हर आज को करे,
खूब जिए, खूश रहे आने वाले वर्ष में..

ईश्वर का हो आशीर्वाद,
परिवार और दोस्तों का मिलता रहे साथ,
आप हर दिन में खूब करे तरक्की,
ऐसी कामना मेरे मन की…

खुश रहे, मस्त रहे.
और हाँ बस दिन बदला है हम और आप वही है..
सो अपनी केमिस्ट्री जैसी थी वही रहेगी,
अलबत्ता पहले से बेहतर होगी..
-सन्नी

अच्छा लगता है..

image

Dedicated to Balika Vadhu, My beautiful wife

मेरी बेवक़ूफ़ियों पर, जब तुम अल्हड़ मुस्काती हो,
मुझे लुभाने की ख्वाहिश में, जब तुम गाने गाती हो,
बात बात में, मेरी ही बात, जब तुम लेकर आती हो,
दिल रीझता है, अच्छा लगता है, जब ऐसे प्यार जताती हो…

सुबह सवेरे जब तुम सज धज कर, मुझे जगाने आती हो,
या घर से निकलते वक़्त, जब तुम रुमाल देने आती हो,
मेरे भूलों को भूल अब जब तारीफों के पुल बांधती हो,
मन मुस्काता है, अच्छा लगता है, जब तुम अपना सर्वस्व बताती हो।

कल तक था जिस आस में जिन्दा,
तुम वो सावन लेकर आयी हो,
था अतीत का जो दर्द सहेजे,
तुम उन्हें बहाने आयी हो।

हाँ कहता रहा हूँ तुम ख्वाब नहीं,
अब लगता है, तुम उन ख्वाबों को संवारने आयी हो।
जिंदगी जीऊँ मैं और भी बेहतर,
इसीलिए मेरे जीवन में,
‘बालिका-वधू’ तुम आयी हो।
-सन्नी कुमार

सूना है सावन आनेवाला है

sunny-kumarतपिश, तड़पन का दौर है बीत गया,
की दिन मिलन का आनेवाला है,
धरती को फिर से सींचने,
सुना है सावन आने वाला है..
-सन्नी कुमार

Tapish, tadpan ka daur hai beet gya,
Ki din milan ka aanewala hai,
Dharti ko phir se sinchne,
Suna hai saawan aanewala hai…

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: