बस तू नजर आये

Tu Najar Aayeकभी मौत मेरे जब करीब आये,
दुआ मेरी उस घडी भी तेरा ही ख्वाब आये,
आँखों में हो आंसूं मंजूर हमें,
पर मेरे आखिरी घडी में तू नजर आये…
-सन्नी कुमार

kabhi maut mere jab karib aaye,
duaa meri us ghadi bhi tera hi khwaab aaye,
aankhon mein ho aansu manjur humein,
par har un ghari mein bhi bus najar tu aaye..
luv u dost…

मुझे आजाद कर दो तुम..

Suno Ab Maaf KAr DO

मुझे आजाद कर दो तुम,
मुझे अब माफ़ कर दो तुम,
मै अब भी उलझा हूँ उन्हीं लम्हों में,
जहाँ रिश्तो को  तोड़ गए थे हम.

कहो कुछ भी,
दो चाहे जो सज़ा मंजुर,
मुझे बस माफ़ कर दो तुम,
मुझे आजाद कर दो तुम.

रुलाती है तुम्हारी बातें,
समझ आती है हर उलझन,
की जब बीता है मुझपर भी,
समझ आता है  बीता कल.

सुनो अब माफ़ कर दो तुम,
मुझे आजाद कर दो तुम..

बहुत रोता हूँ, तन्हां हूँ,
तुम्हें खोने को जीता हूँ.
हूँ जिन्दा भी कहाँ अब मैँ,
की अब जो रोज मरता हूँ.

सुनो अब माफ़ कर दो तुम,
मुझे आजाद कर दो तुम..

-सन्नी कुमार
[एक निवेदन- आपको हमारी रचना कैसी लगी कमेंट करके हमें सूचित करें. धन्यवाद।]

——————————————–

[mujhe aajad kar do tum, mujhe ab maaf kar do tum.. mai ab bhi atka unhi lamho mein, jahan rishte tod gaye the hum…… kaho kuchh bhi, do chaahe jo sajaa manjurr, mujhe bus maaf kar do tum, mujhe aajad kar do tum…rulaati hai tumhari baatein, samjh aati hai har uljhaan, ki jab beeta hai mujhpe bhi, samjh aaya tha kya beeta kal, suno maaf kar do ab, mujhe aajad kar do ab…bahut rota hu tanha hu, tumhare khone ko jeeta hun, mai jinda hun kahan ab mai, ki mai ab roj marta hun….]

कल शाम मिली थी वो…

janebaharकल शाम मिली थी वो
थी थोड़ी सकुचाई,
थोड़ी शर्माई,
पुछा जब हमने,
कारण उन्होंने अपनी व्यस्तता बताई।
वो दिखी जो परेशान,
उनसे कहा था हमने,
मत दो ध्यान, ए जानेबहार,
ये गुल कर लेगा, थोडा और इन्तेजार।।

वो हुयी थोड़ी सहज,
थोड़ी मुस्काई भी थी,
लाल भाव से चेहरा,
वो बेताब सी थी।
टोका उन्होंने, कहा,
बातें अच्छी करते हो आप,
कि सुनाओ कुछ ऐसा,
मै छू लूं आसमान।।

मुझे आता ही क्या है,
बस उनकी तारीफ़,
हम लगे तब पढने,
जो भी भाव थे उनके।
कहा हमने उनसे,
वो ग़ज़ल की पूरी किताब है,
अब पढूं मै कौन कलाम,
अब ये वो ही बताये।।

उन्होंने इशारों में कहा,
जो भी नाचीज फरमाए,
पूछा फिर हमने उनसे,
कि तुम्हारे नैनों में जो लिखा है,
कि जो ये होठ कहने को बेताब,
कि जो गूंजती है तेरे कानो में,
कि जो धड़कन तेरे गाये,
बोलो पढू कौन फज़ल,
की ये गुल कौन सा नगमा गाये।।

वो वापस सकुचाई,
थोड़ी शर्माई,
नजरें मिलाके,
थोडा मुस्कुरा के,
सिमटी मेरी बांहों में,
बोली आज तुम अपनी धड़कन सुनाओ,
हमारी धुन को मिलवाओ,
जो भी है प्यास उनको, आज पूरी कर जाओ।।

गिर गए तब हम प्यार में,
फिर संभलना कहाँ था,
खो गए उनकी आँखों में,
फिर मिलना कहाँ था।
क्या बात, क्या दुनिया,
कुछ भी याद न रहा,
हम लिपटे रहे कब तक,
कुछ ध्यान न रहा।।

उनके दिल की धड़कन को,
महसूस तब की थी,
है कितना प्यार हम में,
उस तड़प में देखी थी।
उनकी धड़कन तब बिलकुल,
मेरे धुन गा रही थी,
क्यूँ होता है हर पल में इन्तेजार,
उस शाम बयां हुयी थी।।

हाल हमारा एक सा ही,
जो दूर होते है,
ढेरों बातें होती है,
और जब साथ होतें है,
ये धड़कन, ये साँसे,
ये आँखें बोलती है,
और तब होठ हमारा,
बिलकुल सहमा होता है।।

है एक सच ये भी,
की जो धड़कन गाती है,
जो नजरें सुनाये,
साँसों में जो एहसास है,
वो ये लब कहाँ से लाये।
शायद उनको भी ये मालूम है,
जो सुनती मिलके, है धड़कन वो,
करके होठों को खामोश,
कहती है हर बात, नजरों से वो।।

उस शाम यही हुआ था,
बातें शुरू होते ख़तम थी,
और हम आँखों में उलझकर,
कहीं और खो गए थे।
बातों को छोड़कर हम,
धडकनों को सुन रहे थे,
साँसों से मिला सांस हम,
एहसास जता रहे थे।।

कुछ भी न था कहने को,
सुनना भी नहीं था कुछ,
हम नजरों में डूब कर तब,
एक दूजे में खो गए थे।
क्या थी बेकरारी,
क्यूँ थे मिलने को बेचैन,
आया समझ उस शाम,
हमें उस एहसास को जीना था।

-सन्नी कुमार