कल मुझसे दूर चली जायेगी

वो जो अक्सर कहा करती थी
कि उसे मेरा चैप्टर नहीं बनना,
वो जिसको एक कामयाब किताब बनाने की हसरत थी मेरी,
वो हकीकत अब महज एक ख्वाब बनकर रह जायेगी।

वो जिसके जिक्र से महकता रहा हूँ मैं,
कल मुझसे दूर चली जाएगी,
मेरी किताब, मेरी हसरत, मेरा ख्वाब, मेरी हकीकत,
कल से सब अधूरी रह जायेगी,
कल तक जो मेरी थी, कल मुझसे दूर चली जायेगी।
-सन्नी कुमार

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: