आज तू और आसमां

IMG_20170612_075616

Wd Love

आज तू और आसमां, मुझपे दोनों ही मेहरबान है..

तुम्हारे एहसासों की गर्मी और ये बारिश की नरमी,
हर रिश्ते की गर्माहट, देती खुशियों की नई आहट,
सपनों से अपनों तक का करता आज सफर,
ये खूबसूरत लम्हें ही तो है, जिनपे करूं मैं खूब फकर..

आज तू और ये रेल, मुझपे दोनों ही मेहरबान है..
तुम्हारे दिल पे मेरा जोर, और इंजन के सीटियों का शोर,
है ये रोमांचकारी भोर, जो ले जा रहा सपनों की ओर,
सरपट दौड़ता ट्रेन का चक्का, और साथ तुम्हारा पक्का,
ये मिट्टी की ख़ुशबू वाला इत्र, और तुम्हारा मेरे कंफर्ट को लेकर फ़िक्र,
ये खूबसूरत यात्राएं हीं तो है, जिनका करूं मैं खूब जिक्र..
-सन्नी कुमार

कोई करिश्मा तुझमें है

ऐसा क्यूं है कि जो खोया था कभी उसका अक्स तुझमें है,
ये मुहब्बत की आदत मेरी है या कोई करिश्मा तुझमें है…
-सन्नी कुमार
*****************************************
क्या इंसान भी फलों सा होता है?
जो बाहर से ज्यादा मीठा वो अंदर से सड़ा होता है??
*****************************************
तुम याद आती हो अब भी रोज़, पर फिर मैं भुला देता हूँ,
दिल चाहता है तुमसे रूबरू होना, पर हसरतों को दिल में दबा देता हूँ,
आज भी उलझता हूँ, उन रूठे ख्वाबों को सहेजने में,
पर अब हकीकत की खुशी है इतनी,
कि जिन्दगी को कर शुक्रिया, बस मुस्कुरा देता हूं…
****************************************
क्यूं संवरती हो उस आईना को देखकर,
संवरा करो तुम इन आँखों में झांककर,
आइना जिससे मिले उसी का हो जाता है,
और ये आँखें है जो सिर्फ तुमको बसाता है..

आओ इन लम्हों में बीते कड़वे सब लम्हों को भुला दो

wordle 2मैं तुम्हें चन्दन, तुम मुझे बिंदी बना लो,
ख्वाबों की खिड़की खोल, इसे हक़ीक़त से मिला दो।

आओ इन लम्हों में बीते कड़वे सब लम्हों को भुला दो।।

Mai tumhe chandan tum mujhe bindi bnaa lo…
khwabon ki khidki ko haqeeqat se milaa do..

aao in lamho me beete kadwe sab lamhon ko bhulaa do….
——————————————
कुछ रिश्तों के न नाम होते है, न बदनाम होते है,
कुछ रिश्ते शराफत की गली में गुमनाम होते है….. 😉
Kuchh rishton ke na naam hote hai, na badnaam hote hai,
Kuchh rishtey sharaaft ki gali mein gumnaam hote hai…