क्या रेपिस्ट भी नाबालिग होता है?

बहुत से लोगों ने कोर्ट के फैसलों को स्वीकार किया है, करना भी चाहिए पर फिर उनकी ये दलील की दोषी नाबालिग था इसीलिए छोड़ा जाना चाहिए, एकदम असंवेदनशील है. सुना है इस देश में मुसलमानों के पर्सनल लॉ बोर्ड भी है तो क्या उस तरफ केस कर देने से इस अफरोज को सजा मिल सकती है या उस बोर्ड का काम बस तलाक दिलवाना भर है?? वैसे हो सकता है की बुद्धिजीवियों के तर्क का आधार उनमे अधिक ज्ञान का हो जाना हो जिस कारण वो दिमाग को दिल पे हुकूमत करने वाले ज़ोन में ले गये हो पर मुझे कोई भी रेपिस्ट नाबालिग नहीं लगता और उम्मीद करता हूँ की राज्य सभा के मेंबर, जिन्हें सीधे तौर पे जनता नहीं चुनती, जो पिछले दरवाजे से संसद तक पहुंचते है और जिनमे सचिन तेंदुलकर जैसों का नाम होता है जो कभी संसद जाते भी नही, ऐसे नक्कारे लोग जन भावनाओं को समझते हुए एक ढंग का कानून लाएंगे जो लोगों को कानूनसंगत जीने के लिए प्रेरित करे वरना अबतक तो कानून खुद असहज है और बलहीन बाहुबली का टैग लिये फिर रहा…
बाकी एक और नाबालिग छोरी जो अमनपसंद कौम की है ISIS की राह पे चलने वाली थी पर बचा ली गयी है, और उसको भी केजरीवाल सरकार और NGO नेटवर्क से नाबालिगों वाली दयादृष्टी का इन्तेजार है, आखिर वो भी अमनपसंद और देशविरोधी सोंच लिए घूम रही….
असहिष्णु सन्नी

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: