क्या इजाजत है तेरी…. (Some Random Posts…)

ख्वाब में देखूँ तुम्हें यही अब हसरत है मेरी,
तुम आओगी क्या कह दो,
कि मुझे जरूरत है तेरी,
पढूं नज़रों को तुम्हारे,
लिख दू्ं दिल, तुम्हारे हवाले,
महका लूं तुम्हारे जिक्र से तन-मन,
कहो क्या इजाजत है तेरी… 😍😜
-सन्नी कुमार ‘अद्विक’

 

तुम्हारा जिक्र जरुरी है..

My Secret Diaryजिन्दगी के किताब में,
तुम्हारा जिक्र जरुरी है,
प्यार से महके मेरा जीवन,
सो तुम्हारे यादों का इत्र जरुरी है..
जिन्दगी के किताब में,
तुम्हारा जिक्र जरुरी है..

बेहतर है आज मेरा कल की रूसवाइयों से,
पर इस वर्तमान के मोल की खातिर,
तुम्हारा इतिहास जरुरी है..
जिन्दगी के किताब में,
तुम्हारा जिक्र जरुरी है..
-सन्नी कुमार