Watch “Kharauna Chhath Ghat 2017” on YouTube

Advertisements

कि तुम लौट आओ अब

Sunny Kumar

तुम्हारे गुजरने से जो गलियां,
शहर हो जाती थी,
कहती है विरानीयां उनकी,
कि तुम लौट आओ अब…

हजारों ख्वाब इस दिल के,
जो तुमसे ही खिलते थे,
कहती है उन ख्वाबों की चाहत,
कि तुम लौट आओ अब…

तुमसे गुफ्तगूं के दौरान,
जो शब्द कविताएँ बनती थी,
कहती है उन भावों की मन्नत,
कि तुम लौट आओ अब…

तुम्हारे होने से मेरी दुनिया,
जगमग दिवाली होती थी,
कहती है वो रौशनी,
वो खुशी मुझसे,
कि तुम लौट आओ अब…

कि तुम लौट आओ अब। 
-सन्नी कुमार

हिंदुस्तान के आदर्श

अयोध्या में प्रभु श्री राम एक महाप्रतापी राजा हुए जिन्होंने अपने जीवन शैली से कर्तव्यों के प्रति निष्ठां, प्रेम, त्याग, मूल्य मर्यादा और साहस सिखाई। हम हिन्दू है हमारे लिए वो ईश्वर के अवतार थे। आप अगर हिन्दू है तो प्रभु के जीवन से बहुत कुछ सीख सकते है, अगर हिन्दू नहीं है फिर भी आप एक महाप्रतापी राजा के जीवन से बहुत कुछ सीख सकते है। श्रीराम महाप्रतापी साहसी और वीर होते हुए भी दमन से दूर प्रेम को पोषित करते रहे।

Life iz Amazing

अयोध्या में प्रभु श्री राम एक महाप्रतापी राजा हुए जिन्होंने अपने जीवन शैली से कर्तव्यों के प्रति निष्ठां, प्रेम, त्याग, मूल्य मर्यादा और साहस सिखाई। हम हिन्दू है हमारे लिए वो ईश्वर के अवतार थे। आप अगर हिन्दू है तो प्रभु के जीवन से बहुत कुछ सीख सकते है, अगर हिन्दू नहीं है फिर भी आप एक महाप्रतापी राजा के जीवन से बहुत कुछ सीख सकते है। श्रीराम महाप्रतापी साहसी और वीर होते हुए भी दमन से दूर प्रेम को पोषित करते रहे। वैसे ही श्री कृष्ण थे जिन्होंने कर्म को निस्वार्थ करना सीखाया, बुद्ध और महावीर ने ध्यान और शांति सीखाई तो नानक ने असमानता को दूर किया। इस भूमि ने जिनको भी आदर्श स्थापित बनाया उनमे किसी ने भी डर को प्रोत्साहित नही किया, सब ने मूल्यों और आदर्शों को ही समझाया, प्रकृति से प्रेम और पूजा सीखाया।
आज कुछ लोग इस मिटटी के होकर अरब में पैदा…

View original post 345 more words

सनम बनाना चाहता

IMG-20170630-WA0027खूबसूरत हो इतना कि तुमसे ख्वाब भी शरमाता है,
चांद की चांदनी भी तुम्हारे सामने फीका नज़र आता है,
मैं और मेरी बिसात क्या, जो भी देखे तुमको उसे प्यार हो जाता है,
जानेमन तुम नूर हो, ये दिल तुमको सनम बनाना चाहता है।
-सन्नी कुमार

चलो आज हिसाब करते

FB_20170908_20_31_01_Saved_Pictureचलो आज हिसाब करते है,
कि हम तुमपर कितना मरते है,
क्या तुमसे खरीदना चाहते है,
क्या तुमको बेचना चाहते है,
क्या तुझमें मुझे लुभाता है,
चलो आज हिसाब करते है।

तुमको तो खबर ही है,
तुम्हारी हंसी मुझे लुभाती है,
कुछ कहो तो हम खो जाते है,
देखे थे जो कभी ख्वाब,
उनसे  हकीकत में मिल आते है।
चलो आज हिसाब करते है,
कि हम तुमपर कितना मरते है।

तुम्हारी हंसी हर बार जोड़ते है,
चिंताओं को घटाते है,
मिले जो प्यार हमको तुमसे,
उसे हर बार गुणा करते है,
है तुममें अच्छाई इतनी,
कि उसका भाग लगा लेते है,
कुछ इस तरह से प्यार है तुमसे,
हर लम्हों में लाभ कमा लेते है।

तुमको हो हर बार मुनाफा,
सो अक्सर अपना नुकसान उठा लेते है,
अपने शब्दों का करके निवेश,
तुम्हारी हंसी का लाभ कमा लेते है,
कुछ ऐसा है तुमसे बेजोड़ मतलब,
हर बार ही तुमको जीता देते है….
-सन्नी कुमार

(Dedicated to Beautiful Balikavadhu)

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: