जंगल ही है

20161221_130916

जंगल ही है,
भावों का शहर नहीं,
कंक्रीट के ढेर है,
कहीं छाया नहीं,
वहाँ कटते है सीधे पेड़  पहले,
यहाँ सीधे लोग सही,
जंगल ही है……..
-सन्नी कुमार

Advertisements

होना तुम्हारा

बहुत खास है मेरे लिए,
होना तुम्हारा..
खिलते है जिन ख्वाबों से,
उनमें है आना तुम्हारा.
हूँ हर्षित जिस हकीकत से,
उनमें है जीना तुम्हारा..

लोग पढ़ते है जिसको जान के कविता,
उनमें है बस जिक्र तुम्हारा.
जिंदगी और इसकी कहानी,
है दोनों ही अधूरी,
गर न मिलें इनको साथ तुम्हारा…
-सन्नी कुमार

अपने पराए हो गए

कुछ ख्वाब हकीकत हो गए,
और कुछ हकीकत ख्वाब हो गए,
जिंदगी ने ली कुछ करवट ऐसी,
कि कुछ पराए अपने हो गए,
और कुछ अपने पराए हो गए।
-सन्नी कुमार

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: