बेताब हू

तुम्हारे आँखों में उतरने को बेताब हूँ मैं,
तुम दिल में बसा लो इंतजार में हूँ मैं,
तुमको दूंगा हर क्षण प्यार ही प्यार,
तुमसे मुहब्बत की इजाज़त मांगता हूँ मैं।
-सन्नी कुमार


प्यार जगा कर कहती हो क्यूं,
कि प्यार न करो,
आँखों को ख्वाब दिखाकर कहती हो क्यूं,
कि ऐतबार  करो,
मेरे दिल में बसती हो तुम,
तुम्हारी हसरत ही सजाता हूँ,
तुमको है खबर सब कुछ फिर भी,
कहती हो प्यार न करो।
-सन्नी कुमार

जब खुलेंगे पन्ने मेरी ज

IMG-20170811-WA0001I have written these lines for a special lady with whom I share innocent love, unconditional support and mutual respect. Yes I adore her, and i am assure that we all have such person in our life with whom we feel good and can share things…. So you too can dedicate this for your special one. Thank you. Enjoy Reading and Spread Love!
जब खुलेंगे पन्ने मेरी जिंदगी के,
वहाँ कुछ महकती यादें मिलेंगी,
होगी मुहब्बत कई और हिस्सों में,
पर यहाँ निर्मोही मोह की सुगंध मिलेगी,
खोने-पाने से उपर उठकर,
मेरे हिस्सों से तुमको मुहब्बत मिलेगी,
होगा जिक्र तुम्हारा इस जीवन में,
कि तुम जान मेरी सावन बनोगी…
-सन्नी कुमार
😍😍😍😍

***********************************************
मेरी मुहब्बत को मेरी आदत न समझो तुम,
मैं शब्दों में वही लिखता हूँ, जो सपने दिखाती तुम.
इसे इस दिल की आवाज ही समझो, कुछ और न समझो तुम,
मेरे शब्दों से सपनों तक, अब हर जगह हो तुम…
-सन्नी कुमार
Dedicate this to someone who inspires you.
***********************************************
मैं क्या कहूं अब और कि जब सब पहले ही कह चुका हूँ,
हो खूब तुम ख्वाबों से बढ़कर,
कि तुम्हारी फिक्र कर चुका हूं,
मिले तुमको मुहब्बत की महफ़िल,
ऐसी मंगलकामना कर चुका हूं,
कहूं अब मैं क्या और तुमसे,
कि मैं जो सबकुछ कह चुका हूँ।
– सन्नी कुमार

ख्वाबों पे बेड़ी डालूँ तो डालूँ मैं कैसे?

WP_20170730_17_29_16_Proतुम कहती हो अक्सर कि मैं कुछ न कहूं,
पर तुम ही बताओ…..
शब्दों को विराम तो मैं दे भी दूं,
पर ख्यालो को रोकूं तो रोकूं मैं कैसे?
न लिखूँ अब तुमसे जुड़ी कोई ख्वाहिश,
पर यादों को बिसराउँ तो बिसराउँ मैं कैसे?

तुम कहती हो मिलके, न तुमसे मिलूं अब
पर खुद से ही बिछड़ू तो बिछड़ू मैं कैसे?
तुमको हो ऐतराज तो आँखें बंद भी कर लूं,
पर ख्वाबों पे बेड़ी डालूँ तो डालूँ मैं कैसे?
-सन
Celebrating Love on my blog http://www.sunnymca.wordpress.com

तस्वीर किसान का

चुनावी नारों तक ही सिमटा रह जाता है,
क्यूं हक़ किसान का..
बहस-बातें खूब होती है
कर्ज माफी का ऐलान भी होता है,
फिर भी नहीं बदलता,
क्यूं तस्वीर किसान का..

वो जिसके मेहनत से सबका पेट भरता है,
वही अन्नदाता क्यों अक्सर खाली पेट सोता है?

उसकी हर फसल, हर मेहनत का,
क्यों हश्र एक होता है,
बाढ में, सुखाड़ में,
हर मौसम की मार में,
क्यों वो अकेले,
उम्मीदें बांधे सिसकता है,
और जब फसल हो बढ़िया,
क्यों बाज़ार कौड़ियों के भाव खरीदता है?

सरकार खूब देती है आश्वासन,
विपक्ष बस शोर मचाता है,
पर ७० सालो से देश के ‘हल्कू’ को,
क्यों उसके मेहनत का मोल नहीं मिलता है?

खेती छोड़ चुका युवा, उनको ये घाटे का सौदा लगता है,
गलती उनकी भी नहीं कि उनको किताबों मे खेती सौदा है, मौसमी जुआ है,
यही तो पढाया जाता है,
खेती का साहस युवा करे भी कैसे,
उसको विदर्भ के किसानों का हाल दहलाता है।

70 सालों से, देश के हर नारों में,
चर्चा किसानों का होता हर चौराहों पर,
संसद हो, सड़क हो, या कोई सम्मेलन
सिर्फ बातें ही होती है,
वायदे ही होते है,
पर किसान के समर्थन में क्यों कोई नीति नहीं बनता?

हर रोज नया नारा आता है,
किसानों के नाम से करने कोई तमाशा आता है,
जिसको गेंहू और जौ का फर्क भी न मालूम,
वो भी किसानों की काया पलटने का स्वांग रचाता है,
भाषण होती है, बड़े-बड़े लेख लिखे जाते है,
फिर भी क्यों, न तकदीर बदलती है,
न तस्वीर किसान का?
-सन्नी कुमार (किसान पुत्र)Tasweer Kisaan Ka

वो थे सबसे सुनहरे पल..

तुम्हारे साथ बिताए हुए वो पल,
वो थे सबसे सुनहरे पल….

Life iz Amazing

Miss uuतुम्हारे साथ बिताये हुए वो पल,
वो थे सबसे सुनहरे पल…

जब सपनों में तुम थी,
और सामने भी तुम..
जब जिक्र में तुम थी,
जज्बात में भी तुम..
हाँ थे वो सुनहरे पल,
जब पास में तुम थी,
और प्यास भी तुम..

तब मुझमें “मैं” कहाँ था,
बस जी रही थी तुम..
तब मेरा ये जहाँ था,
जब साथ में थी तुम..
जी रहा था जन्नत को जमीं पे,
परी बनके मिली थी तुम..

तुम्हारे साथ बिताये हुए वो पल,
वो थे सबसे सुनहरे पल…

सुबह के धुप में तुम थी,
रात अधेरों में भी तुम..
मेरे अश्कों में तुम थी,
और आशिकी में भी तुम..
दर्द तुमसे था,
दीवानगी में भी तुम..
जी रहा था ख्वाबों को,
जब साथ में थी तुम..

पर जिंदगी अब वो नहीं है,
ना ही साथ में हो तुम..
न दुनिया ख्वाबों की रही,
न चाहत में हो तुम..
दोष किसका दूँ, कहो?

View original post 27 more words

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: