विरोध कब कब?

रोहिंग्या के समर्थन में इस देश के किस शहर में सभाएं नहीं हुई, आजाद पार्क में इन्ही रोहिंग्यों के समर्थन में शहीद स्मारक को भी तोड़ दिया था वतनपरस्तो(?) ने पर सवाल है क्या फिलिस्तीन(गाज़ा) और रोहिंग्या(म्यांमार) भारत के लोग थे, नहीं थे, क्या यह जुल्म भारतीय सेना कर रही थी, नहीं?फिर उनके समर्थन में इस देश का विरोध क्यों? जवाब शायद यह हो कि यह देश का विरोध नहीं था बस उन मजलूमों के हक़ का समर्थन था? फिर इस देश की सम्पत्ति जलाने का, हमारे प्रतीक चिन्हों का हमारे भावनाओं पर हमला करने की जुर्रत और जरूरत क्यो आई??
और इन्हीं मानवतावादी लोगों से यह प्रश्न की क्या आप बताएंगे कि पाकिस्तान और बंग्लादेश जो फिलिस्तीन की तरह मिलों दूर नहीं बल्कि पड़ोस में ही है उनके यहां के अल्पसंख्यको की आवाज़ आपने कितनी बार उठाई, स्टेटिक्स क्या कहते है और इन तीनों देशो में अल्पसंख्यको के साथ सलूक का अंतर कितना है, सिर्फ गाज़ा और रोहिंग्या ही क्यों याद आते है जबकि यजीदियों की पूरी नस्ल बर्बाद हो गई है, सीरिया मुल्क है या बम की क्षमता मापने वाला भूभाग अब यह नहीं समझ आता आपकी उनपर चुप्पी क्यों? आपने कितनी बार बंगलादेशी हिंदुओं के हक के लिए, यहां तक कि कश्मीरी अल्पसंख्यको के लिए मोर्च देखे? नहीं देखे न, पर अब आप शायद देख पाए, क्योंकि यह रोग फैल गया है, अब हर चीज पहले धर्म देखकर होगा और इसकी शुरुआत सोशल मीडिया खंगाले अपने आसपास घटी घटनाओं को देखेंगे तो देर न होगा समझने में।
मैन देखा है कि पटना मुजफ्फरपुर, गया जैसे छोटे शहर में भी लोग गाज़ा के लिए सड़कों पर उतरते है, कौन होते हौ ये लोग फिलिस्तीनी और रोहिंग्यों से इनका क्या रिश्ता है, मानवतावादी है, फिर तो कुर्दो के लिए भी लड़े होंगे, मलाला की आवाज़ बुलंद की होगी, कश्मीरी अल्पसंख्यको के साथ हुए न्याय पर जश्न मनाया होगा, पाकिस्तानी अल्पसंख्यको के लिए भी चिंतित होते होंगे? नहीं! क्यों भाई क्या सेक्युलर ऐसे नही होते है?? अगर ऐसा है तो फिर मोदी-शाह तो आपके शिष्य है, आप दोनों में अंतर क्या है? खुद से पूछिए?

बहरहाल मैं CAB के पक्ष में नहीं हूँ क्योंकि हमारे आसाम के भाई-बहन इससे चिंतित है, उनका विश्वास जितना आवश्यक है, देश को यह बताया जाए कि भारत से कितने घुसपैठिये भगाए जा रहे, कितने बसाए जा रहे। मैं इसके पीछे की सोंच से संतुष्ट हूँ और ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि हर कमजोर को विकल्प मिले, चाहे वो कोई फिलिस्तीनी-सीरिया का मुसलमान हो, या इराक के कूर्द, या ईरान के पारसी या पाकिस्तानी हिन्दू, सबके लिए एक देश हो जो उनके उम्मीद ढो सके, मुझे यकीन है कि इस देश के रोहिंग्या मुसलमानों को हमारे पड़ोसी देश जो खुद को इस्लामिक देश भी कहते है जगह देंगे और म्यांमार में हुए उनसे अन्याय को हल करेंगे, शेख हसीना ने तो रोहिंग्यों के लिए शानदार बाते भी कहीं है अखबरों में पढ़ ले।
एक बात और ज्यादा चिंतित न हो रवीश जी की माने तो अब तक मात्र 4000 पेटिशसन है धार्मिक विस्थापितों के जो इस देश मे जगह चाहते है और यह बिल्कुल सच है कि सरकार वोटबैंक की राजनीति कर रही यह भी सच है पर उनकी इस राजनीति से जिनको फायदा मिलेगा वह वाकई में सताए गए लोग है जिनकी बहु-बेटियों को तैमूर सोंच के लोग आज भी लुटते है, जबरन धर्म परिवर्तन एक काला सच है, क्या ऐसे लोगो को जीने का हक नहीं, क्या इतनी उदारता भारतवर्ष को नहीं दिखाना चाहिए, आपको क्या ऐसा लगता है कि अन्य धर्म के लोग इस देश मे नहीं रह पाएंगे? साहब अदनान सामी को इसी सरकार न नागरिकता दी है, तारिक़ फ़तेह जिसे अब आप भारतीय एजेंट के रूप में जानते होंगे यही है ये दोनों भी पाकिस्तानी मुसलमान ही थे इनको CAB से कितना डर है, क्या उनको इस देश मे डर लगता है पूछे उनसे? तस्लीमा नसरीन को भी जब अपने मुल्क में डर लगा तो डेरा यही उदार देश देता रहा, अब आज कुछ 4000 हिंदुओं का विरोध क्यों??आपको क्या लगता है कि वो इस देश में पाकिस्तान में कोई फिदायीन हमला करके भागे है, या बर्बर है या यहाँ आकर शहीद स्मारक तोड़ेंगे या ट्रेनों में पत्थर मारेंगे?? ये दबे कुचले लोग है, रोहिंगया भी है, यजीदी भी है, सीरिया के लोग भी है, पर रोहिंगया और सीरिया के लिए 56 देश है जो खुद को इस्लामिक कंट्री कहते है पर इन हिंदुओं की आस पूरे विश्वपटल पर यही एक सेक्युलर भूभाग है, यह झूठ है क्या??

Feedback Please :)

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: