Media’s Contribution in development

What is the contribution of Indian Media after independence??
सुबह का अखबार दोपहर में मेज साफ़ करने या शाम को समोसा लपेटने का काम आता है, समाचार चैनलों के पास खबर कम गप्प और विज्ञापन ज्यादा है। निकम्मे इतने है कि हर खबर दिल्ली-एनसीआर में ही बना लेते है, दक्षीण भारत का खबर तो तबतक नहीं दिखाते जबतक बाहुबली १००० करोड़ न कमा ले या खुद थलाइवा राजनीति में कूद न जाए, खैर दक्षीण देर-सवेर दिख भी जाता है पर पूर्वोत्तर राज्य? आधे पत्तरकारों(पत्रकार नहीं) को तो इन राज्यों के नाम भी न पता होंगे बावजूद ये अपनी कलम और आवाज़ को बेच आधी हकीकत दिखाएंगे। आज हर चैनल चंदे से और अखबार विज्ञापनों से भरा है, समाचार तो ये नेताओं का ट्वीट पढकर बना लेते है और जब क्रांति करनी हो तो आपसे आपका जात पूछेंगे। खुद बिके है बावजूद ये किसी को कुछ भी कहने/पूछने को स्वतंत्र है। कोई बताएगा इनका योगदान?? दुनिया की सबसे भ्रष्ट मीडिया कहाँ की है??(अपवाद हर जगह हो सकते है)

Advertisements

Feedback Please :)

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: