क्यों न जनता बाग़ी हो जाए

IMG-20170906-WA0030तुम निर्लज्जों के ओछे कर्मों से,
लज्जित हुए हम पछताते है,
अखबारों के पन्ने हरदिन जब,
तुम्हारे काले कर्मों से भरे पाते है,
क्यों देते है वोट तुम्हें हम,
सोंच सोंच जल जाते है।

कैसे हो तुम जनता के सेवक,
जो जनता का सोशन करते हो,
फटेहाल हर दूसरी जनता,
और तुम मेर्सेडीज में घूमते हो,
करते हो तुम कौन व्यापार,
जो अकेले ही फलते हो,
रोजगार के त्रस्त है जनता,
क्यों उनको भी अवसर नहीं देते हो?

बाँट बाँट कर धर्म-जात में,
तुम अपना हित बस साधते हो,
टोपी-तिलक और ऊंच नीच में,
जनता को भरमाते हो,
और अभिनव भारत के सपने पर,
मौन मोहन बन जाते हो।

लूट-गबन और हत्या से तुम,
कौन सी कीर्ति रचते हो,
शर्म नहीं आती क्या तुमको,
जो दोहरी नीति रखते हो,
जनता को तुम नित नियम सिखाते,
और खुद अपराधियों से साठ-गांठ रखते हो,
जनता को मिले अब न्याय भी कैसे,
तुम जो न्याय को बंधक रखते हो..

क्यों न जनता बाग़ी हो जाए
और फ़ेंक उखाड़े सिस्टम को,
क्यों न उठा ले शस्त्र खुदी हम,
न्याय, धर्म की रक्षा को,
मिलते है जो अपराध को शह अब,
क्यों न मार भगाये इन नाकारों को,
कब तक सहे आखिर हम जनता,
तुम भ्रष्ट सत्तासुख लोभियों को?

अब जब मिलता न्याय नहीं,
न बनती है हक़ में कानून,
कब तक रखे धैर्य हम जनता,
कब तक रखें हम सब मौन,
क्यों न खुद की किस्मत अब खुद ही लिख लें,
कहो, अब क्यों न हम बाग़ी हो जाए?
© -सन्नी कुमार
——————————————-
Tum Nirlajjon ke ocche karmon se,
lajjit huye hum pachhtate hai,
akhbaron ke panne har din jab,
tumhare kaale karmo se bhare paate hai,
kyon dete hai vote tumhein,
sonch sonch jal jaate hai..

kaise ho tum janta ke sewak,
jo janta ka shoshan karte ho,
phatehaal har dusri janta,
aur tum mercedez mein ghume ho,
karte ho tum koun vyapar,
jo akele hi tum phalte ho,
rojgaar se trast hai janta,
kyun unko bhi awasar nahin dete ho?

baant-baant kar jaat-dharam mein,
tum apna hit bus saadhte ho,
topi tilak aur unch neech mein,
jantaa ko bharmaate ho,
aur bhinav bharat ke sapne par,
maun-mohan ban jaate ho..

loot gaban aur hatya se tum,
kaun si kirti rachte ho,
sharm nahi aati kya tumko,
jo dohri neeti rakhte ho,
janta ko tum nit niyam seekhate,
khud apradhiyon se saanth-gaanth rakhte ho,
janta ko mile ab nyay bhi kaise,
jo tum nyay ko bandhak rakhte ho..

kaho kyon na janta baagi ho jaaye,
aur phenk ukhaare system ko,
kyon na uthaa le shastra khudi hum,
nyay-dharm ki raksha ko,
milte hai jo apradh ko shah ab,
kyon na maar bhagaaye naakaron ko,
kab tak sahe aakhir hum janta,
tum bhrasjt sattasukh lobhiyon ko..

ab jab milta nyay nahi,
na banti hai haq mein kaanun,
kab tak rakhein dhairya hum janta,
kab tak rakhein hum sab maun,
kyon na khud ki kismat khud hi likh lein,
kaho, ab kyon na hum baaghi ho jaaye?
©-Sunny Kumar

You may please also read my other poems on political scenario 🙂 :-

दिल कहता है कलम छोड़, अब बन्दूक उठा लूँ

गिर रहे लोगों के भाव लिखो..

चुनाव नहीं मतदान करें

है दिल्ली से अनुरोध

 

Advertisements

Feedback Please :)

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: