अच्छा लगता है..

image

Dedicated to Balika Vadhu, My beautiful wife

मेरी बेवक़ूफ़ियों पर, जब तुम अल्हड़ मुस्काती हो,
मुझे लुभाने की ख्वाहिश में, जब तुम गाने गाती हो,
बात बात में, मेरी ही बात, जब तुम लेकर आती हो,
दिल रीझता है, अच्छा लगता है, जब ऐसे प्यार जताती हो…

सुबह सवेरे जब तुम सज धज कर, मुझे जगाने आती हो,
या घर से निकलते वक़्त, जब तुम रुमाल देने आती हो,
मेरे भूलों को भूल अब जब तारीफों के पुल बांधती हो,
मन मुस्काता है, अच्छा लगता है, जब तुम अपना सर्वस्व बताती हो।

कल तक था जिस आस में जिन्दा,
तुम वो सावन लेकर आयी हो,
था अतीत का जो दर्द सहेजे,
तुम उन्हें बहाने आयी हो।

हाँ कहता रहा हूँ तुम ख्वाब नहीं,
अब लगता है, तुम उन ख्वाबों को संवारने आयी हो।
जिंदगी जीऊँ मैं और भी बेहतर,
इसीलिए मेरे जीवन में,
‘बालिका-वधू’ तुम आयी हो।
-सन्नी कुमार

Advertisements

15 thoughts on “अच्छा लगता है..

Add yours

  1. बधाई सन्नी। बताया नही. पर आपको भी वैसा ही प्रतिदान देना पड़ेगा तभी बात
    जमेगी. प्यार और सम्मान लिए देना भी पड़ता है.

    1. प्रणाम, मैंने एक पोस्ट की थी पहले आपने शायद देखा नही। आशीर्वाद दे हम दोनों को और जी 1 महीने में इतना तो समझे ही है की ये गाड़ी दो पहियों पे चलती है…. 🙂

      1. Bahut sara ashirwad dono ko. Ego hata do to gadi sahi chalti hai. Commitment,communication and transparency kisi bhi rishte ko majboot banati hai. App to khud bahut samajhdar lagte ho.

      1. Thik hai alok bhaiya. Dekhiye aap bde h mujhse itna mat chhiniye. Apan gaaon wale log hai naam se pukarne ki aadat nhi hoti…maan jaaiye bhaiyya 🙂

Feedback Please :)

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: