Dear Priyeee

I wanted to forget you………….but i failed to do so……………i am alive with a burning heart…..you situation bought me, made me shameless proved me useless….its tough to make others understand, but do you count my tears, do you dare to share yours part so the same cant get repeated……….I knw i knw ure best bt………………………………………………………………………………………………………………………………………………………getting mad…………………………………………………………………………………………………………………………………….life iz amazing…………………..u cant predict coming moment, you cant say who will react how in which situation…..we all are dependendent,,,,,,,lucky go happy and loosers like me….thinks, reads n cries……………………………..stupid i am

Life iz Amazing

Dear Priyeee,

I am sorry that i am writing here, actually you asked me not to write and i had promised sweetie that i wont text you any more. You know all are saying the same thing that I am doing wrong if i am writing for you but you know it was tough, my heart still wants to know the reasons and as I can’t break my promises any more so i stopped texting you. I have stopped calling you because the lady you were abusing deserves more respect than you. Hope you have finally find peace and love at your heart and happy with your life and settlements.

Well i am not here for good words, to expect what you are going through but to remind you and all who are reading this letter that what had happened last year with us, who we are and why i miss…

View original post 1,217 more words

Advertisements

एक बेहतर अंत की शुरुआत..

पर हौसले थक गए है आज,
नहीं करनी कोई अब शुरुआत… 😦

Life iz Amazing

Photo Credit: Google[A Tale of Unfortunate Heart Who Fail to keep his feelings in a right way.]

जो मिला मुझे वह नियती थी,
नहीं उसमें किसी की गलती थी,
दिल था ‘बेचारा’ बेचैन हुआ
आखिर हसरत इसकी अधूरी थी.
चीखा, चिल्लाया, दफ़न हुआ,
बस इसकी, इतनी ही अवधि थी..

आँखों के आंसू तब सूखे थे,
शायर के बोल भी टूटे थे.
दिल की बेचैनी आँखों में,
जब सामने हालातों के सौदागर थे..

वो इश्क नही, था ख्वाब मेरा,
जिसको नादान ने तोड़े थे,
होती बेदर्दी हुस्न के पीछे,
उस रोज रहस्य जाने थे..

छुप-छुप कर मिलने वाले सपने,
उस रोज में चुप्पी साधे थे,
दिल की तड़प में मरने वाले,
सारे जज्बात नदारथ थे.

दिल फिर भी हालातों संग,
अब रोज नयी कोशिश में था,
कभी उसके चाहत में रोये,
कभी उसकी बिछुड़न में..

वादे जिसने थे सारे तोड़े,
बेशर्म उसी को, अब भी थामे था.
जो बची थी उम्मीद, जल्द ही…

View original post 574 more words

है इसका क्यूँ कहीं कोई जिक्र नहीं..

करो तुम लाख अब नफरत हमसे, हमें इसकी है कोई फिक्र नहीं.
पर निभाया हो तुमने किसी से मुहब्बत, है इसका क्यूँ कहीं कोई जिक्र नहीं..
————————————————————————–
karo tum lakh ab nafrat humse, humein iski ab koi fiqra nahi..
par nibhaya ho tumne kisi se muhabbat, hai iska kyun kahin koi jikra nahi..

कृष्णा जी, भेजो न उसको आज

???????????????????????????????

कृष्णा जी, भेजो न उसको आज,
की पूछ लूँ कैसी है वो,
किस हाल में है..
मैं भूल रहा हूँ उसको,
क्या वो भी भूल गयी है हमको..

कृष्णा जी, भेजो न उसको आज,
की उससे आज फिर मैं दुहराऊं,
वो बिलकुल मुझसी है, मेरे ख्वाबों सी है,
उससे कहना, उसकी सुनना,
उसमे फना होने की हसरत,
अब भी मुझमे है.

कृष्णा जी, भेजो न उसको आज,
की उससे थोडा लाड दीखाना है,
थोडा प्यार जताना है.
जाने कितनी होगी खाली वो,
की उसमे थोडा रंग भी भरना है..

कृष्णा जी, भेजो न उसको आज,
की उसको मनाना है और उससे कहना है,
की उससे प्यार नहीं, वो ही प्यार है,
उससे ख्वाब नहीं, वो ही ख्वाब है,
उसकी बातें नहीं अब वो ही बात है..

कृष्णा जी, भेजो न उसको आज,
की उससे मिलके हंसना है,
थोडा कल पे भी रोना है,
हूँ जिन्दा अब भी,
मुझे ये बतलाना है..

कृष्णा जी, भेजो न उसको आज,
की आज मुझे फिर दो पल जीना है…

-सन्नी कुमार

————————————————————————————–

Krishna Jee, Bhejo na usko aaj,
ki puchh lu kaisi hai wo,
kis haal mein hai,
mai bhul rahaa hun usko,
kya wo bhi bhul gayee hai humko..

Krishna Jee, Bhejo na usko aaj,
ki usase aaj phir mai duhraaun,
wo bilkul mujhsi hai, mere khwabon si hai,
usase kahna, uski sunanaa,
usme fanaa hone ki hasrat,
ab bhi mujhmein hai..

Krishna Jee, Bhejo na usko aaj,
ki usase thoda laad dikhaana hai,
thoda pyar jataana hai,
jaane kitni hogi khaali wo,
ki usme thoda rang bhi bharna hai…

Krishna Jee, Bhejo na usko aaj,
ki usko manaana hai aur usase kahna hai,
ki usase pyar nahi, wo hi pyar hai,
usase khwab nahi, wo hi khwab hai,
uski baatein nahi, ab wo hi baat hai…

Krishna Jee, Bhejo na usko aaj,
ki usase milke hansna hai,
thoda kal pe bhi rona hai,
hun jinda ab bhi,
mujhe ye batlaana hai..

Krishna Jee, Bhejo na usko aaj,
ki mujhe aaj phir do pal jeena hai..

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: