उस जिंदगी को कैसे जीया जाए

सन्नी कुमारकल का जिक्र भी जब आज में गुनाह हो जाए,
दिल की हसरत जब जरूरतों में कहीं खो जाए,
अपनों के बीच में भी जो तन्हां रह जाए,
कहो, उस जिंदगी को अब कैसे जीया जाए..
-सन्नी कुमार

———————————————

Kal ka jikra bhi jab aaj mein gunaah ho jaaye,
dil ki hastar jab jarooraton mein kahin kho jaaye,
apno ke beech mein bhi jo tanhan rah jaaye,
kaho, us jindagi ko ab kaise jeeye jaaye…
-Sunny Kumar

,

Advertisements

10 thoughts on “उस जिंदगी को कैसे जीया जाए

Add yours

    1. जय श्री कृष्णा ऋषि,
      इश्वर मार्गदर्शन करें और हमेशा अच्छे लोगों की संगती में रखे, बाकी महान न हूँ न बनाना है.

    1. धन्यवाद पामेला जी.
      शब्द जोड़ना नही आता पर दिल की भरास निकालने का कोई और हूनर मालूम नही सो लिखते है, ताकि लोग समझे.

      बहुत बहुत धन्यवाद. 🙂

Feedback Please :)

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: