तुमसे ही आखिरी उम्मीद

Sunny Kumarअब शब्दों पर यक़ीन नहीं होता,
और वक़्त पर ऐतबार,
पर आँखों में सपने, अब भी जागे है,
और तुमसे ही आखिरी उम्मीद।

माना दूर गया था,
तुमको छोड़,
रुसवाइयों में मैं मुँह मोड़,
पर सच है, तब मै भी रोया था,
क्यूंकि तब ख्वाब, मेरा भी टूटा था।

अब वक़्त नहीं, न हालात है वो,
हूँ शर्मिंदा पर दोस्त(उम्मीद) हो तुम,

जो चाहे सजा दो तुम,
पर अब अपनी रज़ा दो तुम,
थक गया हूँ भाग-भाग कर,
तुम संग सिमटने की,
अब नियत दो तुम..

बस कहना है तुमसे और सुनना है तुमको,
कि क्या रिश्तों में है एक गलती की गुंजाईश?
कहो क्या तुम अब भी मेरी हो,
की क्या उन सपनों को सच करने की है कोई गुंजाईश?

-सन्नी कुमार
[एक निवेदन- आपको हमारी रचना कैसी लगी कमेंट करके हमें सूचित करें. धन्यवाद।]

———————————————————

Ab Shabdon par yaqeen nahin hota,
Aur waqt par aitbaar..
par aankhon mein sapne, ab bhi jaage hai..
Aur tumse hi aakhiri ummid..

Maana door gayaa tha tumko chhod,
ruswayion mein mai munh mod,
par sach hai tab mai bhi roya tha,
kyunki tab khwab, mera bhi toota tha..

Ab waqt nahi na haalat hai wo,
hun sharminda par dost(ummid) ho tum..

Jo chaahe sajaa do tum,
par ab apni razaa do tum,
thak gayaa hun bhaag bhag kar,
Tum tak simatane ki,
Ab niyat do tum.

Bus kahna hai tumse Aur sunana hai tumko,
ki kya rishton mein hai, ek galati ki gunjaish?
Kaho jo tum ab bhi meri ho,
Ki kya un sapno ko sach karne ki hai koi gunjaish?

[This is written for my first love the most innocent one whom i still love and will love forever in my own way ;)]

Advertisements

13 thoughts on “तुमसे ही आखिरी उम्मीद

Add yours

  1. good sir bahut acchhi hai apki kvitaye
    mai apne dosto me bhi share krongq
    aur likho sr aur juld hi market me book lonch krwao
    sabse phle mai kharido ga (nyc)
    jai shri Krishna )

Feedback Please :)

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: